जकार्ता: महिला हॉकी टीम का 30 वर्ष में पहली बार स्वर्ण पदक जीतने का सपना शुक्रवार को भी पूरा नहीं हो पाया, लेकिन सेलिंग में अच्छे प्रदर्शन से भारत एशियाई खेलों में पदकों के मामले में अपने पिछले प्रदर्शन की बराबरी करने में सफल रहा. एथलेटिक्स की स्पर्धाएं समाप्त होने के बाद भारत ने शुक्रवार को एक रजत और दो कांस्य पदक जीते लेकिन महिला हॉकी टीम ही हार दिल तोड़ने वाली रही. हालांकि, अच्छी बात यह है कि यह करीब-करीब तय हो चुका है कि भारत इस बार पदकों का नया रिकॉर्ड बनाएगी. भारत के अभी कुल 65 पदक हैं जबकि स्क्वॉश और बॉक्सिंग में कम से कम दो पदक मिलने तय हैं.

हॉकी: फाइनल में हारी महिला टीम
भारतीय पुरुष टीम सेमीफाइनल से आगे नहीं बढ़ पायी थी और महिला टीम भी फाइनल में जापान से 1-2 से हार गयी. संतोष की बात यह है कि 2014 में टीम ने कांस्य पदक जीता था और इस बार वह पदक का रंग बदलने में सफल रही. पुरुष टीम शनिवार को कांस्य पदक के लिये पाकिस्तान से भिड़ेगी. भारत अब कुल 65 पदक लेकर आठवें स्थान पर बना हुआ है. भारत ने 2010 में भी इतने ही पदक जीते थे. भारत ने अब तक 13 स्वर्ण, 23 रजत और 29 कांस्य पदक हासिल किये हैं.

एशियन गेम्स 2018: सेलिंग में भारत ने जीता सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल

सेलिंग में रिकॉर्डतोड़ प्रदर्शन
शुक्रवार को मुख्य आकर्षण सेलिंग में भारत का अच्छा प्रदर्शन रहा. वर्षा गौतम और श्वेता शरवेगर ने 49 ईआर एफएक्स स्पर्धा में रजत पदक जबकि दो पुरुष खिलाड़ियों ने अपनी पिछली रेस में डिस्क्वालीफिकेशन से वापसी करते हुए कांस्य पदक हासिल किये जिससे भारत ने एशियाई खेलों की सेलिंग स्पर्धा में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. इस प्रदर्शन के बूते देश ने 1982 के बाद अपना सर्वश्रेष्ठ नतीजा हासिल किया जिसमें भारत ने फायरबॉल में एक स्वर्ण, एंटरप्राइज में एक रजत और विंडग्लाइडर में एक कांस्य पदक जीता था.

टेस्ट क्रिकेट में कोहली ने पूरे किए 6 हजार रन, गावस्कर के बाद सबसे तेज

वर्षा के लिये यह उनका दूसरा एशियाड पदक है क्योंकि उन्होंने 2014 चरण में ऐश्वर्या नेदुनचेझियान के साथ मिलकर 29 ईआर में कांस्य पदक जीता था. वरुण ठक्कर अशोक और चेंगप्पा गणपति केलापंडा ने 49 ईआर पुरुष स्पर्धा की रेस 15 के बाद कुल 43 के स्कोर से कांस्य पदक जीता.

स्क्वाश: फाइनल में चिनप्पा
स्क्वाश में जोशना चिनप्पा ने आठ बार की विश्व चैम्पियन निकोल डेविड को हराया जिससे भारतीय महिला टीम ने गत चैम्पियन मलेशिया को 2-0 से पराजित किया और लगातार दूसरी बार फाइनल में प्रवेश किया. लेकिन गत चैम्पियन भारतीय पुरुष टीम को सेमीफाइनल में हांगकांग से 0-2 से मिली हार के कारण कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा. भारतीय पुरुष टीम में सौरव घोषाल, हरिंदर पाल संधू, रमित टंडन और महेश मंगावंकर शामिल थे.

एशियन गेम्स 2018: चोट की वजह से सेमीफाइनल में हिस्सा नहीं लेंगे बॉक्सर विकास

बॉक्सिंग में अमित से आस
मुक्केबाजी रिंग में अमित पांघल (49 किग्रा) अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए फाइनल में प्रवेश किया लेकिन चोटिल विकास कृष्ण (75 किग्रा) को सेमीफाइनल के लिये अनफिट घोषित किये जाने के बाद कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा. अमित सेमीफाइनल मुकाबले में फिलीपींस के कार्लो पालाम को 3-2 से हराकर फाइनल में प्रवेश करने वाले एकमात्र भारतीय मुक्केबाज रहे.

INDvsENG: सचिन-द्रविड़ के बाद कोहली भी ‘स्पेशल 200’ में शामिल, कई दिग्गज पीछे छूटे

अचंत शरत कमल, जी साथियान और मनिका बत्रा के एकल प्री-क्वार्टरफाइनल में हारने के साथ टेबल टेनिस स्पर्धा में भारत का अभियान ऐतिहासिक दो पदकों के साथ खत्म हुआ. जूडो और वालीबॉल में भारत को फिर से हार का ही सामना करना पड़ा.