भारतीय मुक्केबाजों ने संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के फुजैराह में एशियाई जूनियर चैम्पियनशिप में शानदार प्रदर्शन करते हुए 6 स्वर्ण, 9 रजत के साथ कुल 21 पदक हासिल किए.

क्रिस गेल की जगह अब इस T-20 लीग में खेलेंगे पाक के पूर्व कप्तान शोएब मलिक

टूर्नामेंट में 26 देशों ने भाग लिया था जिनमें भारत कुल पदकों के मामले में शीर्ष पर रहा लेकिन तालिका में उज्बेकिस्तान (20 पदक) के बाद दूसरे स्थान पर रहा जिसने आठ स्वर्ण जीते.

भारतीय पुरुष टीम ने दो स्वर्ण, तीन रजत और इतने ही कांस्य पदक जीते जबकि महिला टीम ने कल शाम समाप्त हुए टूर्नामेंट में चार स्वर्ण, छह रजत और तीन कांस्य पदक हासिल किए.

पुरुषों में विश्वनाथ सुरेश (46 किग्रा) और विश्वामित्र चोंगथम (48 किग्रा) ने स्वर्ण जीते.

राष्ट्रीय चैम्पियन कल्पना (46 किग्रा), प्रीती दहिया (60 किग्रा), तशबीर कौर संधू (80 किग्रा) और अल्फिया तरन्नुम पठान (80 किग्रा से अधिक) ने महिलाओं के वर्ग में स्वर्ण जीते.

नौ बार टॉस हारने के बाद रांची टेस्ट में ‘सबस्टिट्यूट’ का इस्तेमाल करेंगे फाफ डु प्लेसिस

योगेश कागड़ा (63 किग्रा), जयदीप रावत (66 किग्रा) और राहुल (70 किग्रा) ने पुरुषों के वर्ग में जबकि तमन्ना (48 किग्रा), तन्नू (52 किग्रा), नेहा (54 किग्रा), खुशी (63 किग्रा), शारवरी कल्यांकर (70 किग्रा) और खुशी (75 किग्रा) ने महिलाओं के वर्ग में रजत पदक अपने नाम किये.

महिलाओं के वर्ग में रिंकू (50 किग्रा), अंबेश्वरी देवी (57 किग्रा) और माही लामा (66 किग्रा) जबकि विजय सिंह (50 किग्रा), विक्टर सिंह शेखोम (52 किग्रा) और वंशज (60 किग्रा) ने पुरुषों के वर्ग में कांस्य पदक हासिल किया.

टूर्नामेंट में 26 देशों के 293 (170 पुरुष और 69 महिला) मुक्केबाजों ने भाग लिया था.