नोवाक जोकोविच (Novak Djokovic) एटीपी फाइनल्स में रोजर फेडरर (Roger Federer) के रिकार्ड छह खिताब की बराबरी करके और राफेल नडाल (Rafael Nadal) को नंबर एक रैंकिंग से हटाकर इस सीजन का शानदार अंत कर सकते हैं। Also Read - Italian Open: Novak Djokovic को हराकर Rafael Nadal बने चैंपियन

जर्मनी के अलेक्सांद्र जेवरेव ने पिछले साल एटीपी फाइनल्स के खिताबी मुकाबले में जोकोविच को हरा दिया था लेकिन ये सर्बियाई टेनिस दिग्गज इस साल खिताब के प्रबल दावेदार के रूप में शुरुआत करेगा। जोकोविच और नडाल ने मिलकर इस साल के चारों ग्रैंडस्लैम जीते और अगली पीढ़ी को अपनी बादशाहत नहीं जमाने दी। Also Read - इटालियन ओपन फाइनल में नोवाक जोकोविच से भिड़ेंगे राफेल नडाल; 10वें खिताब के लिए होगा जबरदस्त मुकाबला

नडाल ने अब तक एटीपी फाइनल्स का खिताब नहीं जीता है लेकिन उन्होंने अपने पुराने प्रतिद्वंद्वी को इस सप्ताह नंबर एक रैंकिंग से हटा दिया था और वो उम्मीद कर रहे हैं कि साल के आखिर में भी वो शीर्ष पर काबिज रहेंगे। टूर्नामेंट से पहले हालांकि चोट उनके लिए परेशानी का सबब बनी है। Also Read - माटेओ बारेट्टीनी को हराकर मैड्रिड ओपन चैंपियन बने जर्मनी के एलेक्सजेंडर ज्वेरेव

फेडरर, नडाल और जोकोविच को शीर्ष वरीयता दी गई है और वो 2007 के बाद पहली बार एक साथ एटीपी फाइनल्स में खेलेंगे। बारह साल बाद भी पुरुष टेनिस के शीर्ष खिलाड़ियों में कोई खास बदलाव नहीं हुआ है हालांकि उन्हें रूस के डेनिल मेदवेदेव से सतर्क रहना होगा जिन्होंने अगस्त के बाद दो मास्टर्स खिताब जीते हैं और नडाल को यूएस ओपन फाइनल में पांच सेट तक संघर्ष करवाया था।

एटीपी फाइनल्स में शीर्ष आठ खिलाड़ी भाग लेते हैं। इन चारों के अलावा इस बार ऑस्ट्रिया के डोमिनिक थीम, यूनान के स्टेफेनोस सिटिसिपास, जर्मनी के जेवरेव और इटली के मैटियो बेरेटिनी टूर्नामेंट में हिस्सा लेंगे।

नडाल पांचवीं बार साल के आखिर में नंबर एक रैंकिंग हासिल करने की कोशिश करेंगे। वो अभी जोकोविच से 640 अंक आगे हैं। उनकी पेट की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया है लेकिन वो टूर्नामेंट में खेलने के लिए प्रतिबद्ध हैं। पिछले साल भी वो चोटिल होने के कारण इस टूर्नामेंट में नहीं खेल पाए थे।

नडाल को आंद्रे अगासी ग्रुप में रखा गया है जहां उनके प्रतिद्वंद्वी मेदवेदेव, सिटिसिपास और जेवरेव होंगे। जोकोविच, फेडरर, थीम और बेरेटिनी को ब्योर्न बोर्ग ग्रुप में रखा गया है।

जोकोविच ने 2012 से 2015 तक लगातार चार साल खिताब जीता था लेकिन पिछले तीन सालों में दो बार उन्हें फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। फेडरर ने 2011 के बाद से एटीपी फाइनल्स नहीं जीता है।