मेलबर्न: भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन शुक्रवार को मेजबान देश के प्रतिबंधित खिलाड़ियों स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर की ‘पीआर कैम्पेन’ का उदाहरण देखने को मिला. एक वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक, मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम की बल्लेबाजी के दौरान जब किसी भी वजह से रुकावट आती, इन दोनों द्वारा कहे गए वाक्य स्क्रीन पर दिखाई और सुनाई देते.

ऑस्ट्रेलिया ने दिन की शुरुआत बिना किसी विकेट के नुकसान के आठ रनों के साथ की थी. ऑस्ट्रेलियाई पारी शुरू हुई और इसी बीच ईशांत शर्मा ने एक नो बॉल फेंकी. इस समय एक विज्ञापन आया- ‘मैं गहरे अंधकार में था’.

ईशांत ने जब फिंच को मयंक अग्रवाल के हाथों कैच कराया उसके बाद एक और विज्ञापन आया. इसमें लिखा था- ‘इस वक्त ने मुझे बताया कि लोग किस स्थिति से गुजरते हैं और उन्हें मुश्किल हालात से लड़ने के लिए किस बात की जरूरत होती है.’

ईशांत ने जब बुमराह की गेंद पर हैरिस का कैच पकड़ उन्हें पवेलियन भेजा तो विज्ञापन आया, ‘यह सामने आने की बात है. साथ ही ईमानदार रहने और जिम्मेदारी लेने की बात है.’

रवींद्र जडेजा द्वारा उस्मान ख्वाजा को आउट करने के बाद विज्ञापन आया, ‘यहां (सदरलैंड) इस क्लब में वापस आकर अच्छा लगा. मैं प्रतिद्वंद्विता में रहना चाहता हूं. यह सिर्फ आपके और गेंदबाज के बीच की बात है.’ शॉर्न मार्श के आउट होते ही लंच की घोषणा कर दी गई और इस समय विज्ञापन था, ‘मैंने निश्चित तौर पर काफी मुश्किल दिन गुजारे हैं, लेकिन आलोचना होना ठीक है.’

बुमराह की तारीफ में बोले माइकल क्लार्क- तीनों फॉर्मेट में दुनिया का नंबर वन तेज गेंदबाज बनेगा

दूसरे सत्र में ट्रेविस हेड के आउट होने के बाद विज्ञापन था, ‘हर कोई गलतियां करता है. यह मसला है कि आप किस तरह से उस पर प्रतिक्रिया करते हो, यह काफी अहम है.’ ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी के दौरान स्मिथ का यह बयान लगातार आता रहा. एक अन्य विज्ञापन था, ‘मैं वापसी करना चाहता हूं, पहले से बेहतर होकर.’

मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया को फॉलोऑन नहीं खिलाने का फैसला गलती नहीं, विराट की स्ट्रैट्जी है

गौरतलब है कि स्मिथ, वार्नर को इसी साल मार्च में केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में बॉल टेम्परिंग के कारण क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने एक-एक साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया था; इनके साथ कैमरन बैनक्रॉफ्ट भी शामिल थे. सीए ने बैनक्रॉफ्ट पर नौ महीने का प्रतिबंध लगाया था जो इसी महीने समाप्त हो रहा है.