मेलबर्न: भारत के खिलाफ बॉक्सिंग डे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम बैकफुट पर है. पहली पारी में 292 रनों से पिछड़ने के बाद कंगारू टीम ने दूसरी पारी में भारत के पांच विकेट केवल 54 रन पर आउट किए. इसके बावजूद इस मैच में ऑस्ट्रेलिया की हार तय लग रही है. हालांकि, टीम के तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने कहा है कि उनकी टीम अब भी जीत सकती है लेकिन इसके लिए उनकी टीम के बल्लेबाजों को विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा की तरह बल्लेबाजी करनी होगी.

इस मैच में भारत ने जसप्रीत बुमराह के नेतृत्व में ऑस्ट्रेलिया को पहली पारी में सिर्फ 151 रनों पर ढेर कर दिया. कमिंस ने शुक्रवार को कहा कि मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) पर खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच में उनके बल्लेबाजों को भारतीय कप्तान विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा जैसी बल्लेबाजी करने की जरूरत है.

पुजारा और कोहली ने भारत की पहली पारी में तीसरे विकेट के लिए 170 रनों की साझेदारी की थी. कमिंस ने कहा, “हमने भारत की पहली पारी में जो देखा वो पुजारा और कोहली का धैर्य, कि किस तरह से उन्होंने पारी को आगे बढ़ाया. उन्होंने दबाव को अच्छे से संभाला क्योंकि इस तरह की विकेट पर स्कोर करना आसान नहीं होता है.” इस तेज गेंदबाज ने कहा, “आपको बड़ी पारी खेलने के लिए काफी गेंदों का सामना करना पड़ता है. यह शायद उन विकेटों में से है जहां आपको कड़ी मेहनत करनी होगी.”

टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर ने दूसरी पारी में किया ‘सरेंडर’, फिर भी मेलबर्न जेब के ‘अंदर’

भारत ने अपनी पहली पारी सात विकेट के नुकसान पर 443 रनों पर घोषित कर दी थी. वह दूसरी पारी में 292 रनों की लीड के साथ मैदान पर उतरी थी. भारत ने हालांकि दिन का खेल खत्म होने तक अपने पांच विकेट खो दिए. इन पांच विकेटों में से कमिंस ने अकेले चार विकेट लिए.

जानना चाहते हैं बुमराह के ‘सिक्सर पंच’ का राज, VIDEO में सुनिए उन्हीं की जुबानी

मैच के बाद कमिंस ने कहा, “यह निश्चित तौर पर अच्छी बात नहीं थी. हमने सोचा था कि हम पहली पारी में अच्छा स्कोर बनाएंगे और मैच में बने रहेंगे. हम उनके हाथ से मैच ले जाना चाहते थे. हमारी टीम का बल्लेबाजी क्रम युवा है और वे काफी मेहनत कर रहे हैं. वह अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन यह सिर्फ एक अच्छी पारी की बात है. आज यह नहीं हो सका.”

मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया को फॉलोऑन नहीं खिलाने का फैसला गलती नहीं, विराट की स्ट्रैट्जी है

कमिंस ने इस दौरान माना कि टीम को स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर के न होने से नुकसान है. उन्होंने कहा, “आपके दो सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के न होने से काफी नुकसान होता है. इस बात का अंदाजा हमें बीते नौ महीनों में चला. दूसरे खिलाड़ियों को जिम्मेदारी लेनी होगी. हमें रास्ता निकालना होगा.” उन्होंने कहा, “यहां हर कोई काबिल है. इन सभी ने इससे निचले स्तर पर अच्छा खेला है. हर खिलाड़ी शेफील्ड शील्ड में शानदार खेलकर ही यहां तक पहुंचा है.”