ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ जारी डे-नाइट टेस्‍ट मैच में मेहमान पाकिस्‍तान पर पारी से हार का खतरा मंडरा रहा है. ऑलराउंडर यासिर शाह(113) ने बल्‍लेबाजी के दौरान दुनिया के सबसे खतरनाक तेज गेंदबाजी आक्रमण के सामने आठवें नंबर पर बल्‍लेबाजी करते हुए शतक जड़ा. Also Read - India vs Australia- अगर भारत-ऑस्ट्रेलिया सीरीज ड्रॉ हुई तो यह पिछली हार से भी बुरी: Ricky Ponting

Also Read - 4th Test: जानें, गाबा में क्‍या है सबसे बड़ा रन चेज, भारत चौथी पारी में बना पाया है कितने रन ?

यासिर शतक के बावजूद भी पाकिस्‍तान की टीम ऑस्‍ट्रेलिया के 589/3 रनों के सामने 302 रन पर ऑलआउट हो गई. पैट कमिंस ने छह विकेट हॉल अपने नाम कर पाकिस्‍तान के बल्‍लेबाजी क्रम की धज्जियां उड़ा दी. Also Read - 4th Test: मोहम्‍मद सिराज के पांच विकेट हॉल से ऑस्‍ट्रेलिया 294 पर ऑलआउट, भारत को मिला 328 रनों का लक्ष्‍य

पढ़ें:- वार्नर बोले- ज्‍यादा फर्स्‍ट क्‍लास क्रिकेट खेले बिना ही सहवाग ने मेरे लिए भविष्‍यवाणी की थी कि मैं…

मैच में पाकिस्‍तान को फॉलोऑन पर खेलने के लिए मैदान पर दोबारा बल्‍लेबाजी के लिए आना पड़ा. दूसरी पारी के दौरान भी पाकिस्‍तान की स्थिति खास अच्‍छी नहीं रही. ऑस्ट्रेलिया में लगातार 13 टेस्ट मैच गंवाने वाला पाकिस्तान रविवार को तीसरे दिन तीसरे दिन का खेल खत्‍म होने तक तीन विकेट के नुकसान पर 39 रन ही बना पाया है. पारी की हार से बचने के लिए पाकिस्‍तान को अब भी 248 रनों की दरकार है.

पाकिस्तान ने तीसरे दिन की शुरुआत में दोपहर को अपनी पहली पारी छह विकेट पर 96 रन से आगे बढ़ायी. यासिर (113) के शतक और बाबर आजम के 97 रन की मदद से उसने अपनी पहली पारी में 302 रन बनाये. इसके बावजूद वह ऑस्ट्रेलिया से 287 रन पीछे रह गया.

पढ़ें:- Video: तिहरा शतक जड़ने के बाद डेविड वार्नर ने फैन को तोहफे में दिया हेलमेट

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने पाकिस्तान को फॉलोआन के लिये आमंत्रित किया. पाकिस्तान की शुरुआत खराब रही. जोश हेजलवुड ने सलामी बल्लेबाज इमाम उल हक को एलबीडब्‍ल्‍यू आउट करके उन्हें खाता भी नहीं खेलने दिया. स्टार्क ने कप्तान अजहर अली (9) को स्टीव स्मिथ के हाथों कैच कराकर स्कोर दो विकेट पर 11 रन कर दिया.

दिन में बारिश का खतरा बना रहा और इससे बीच में व्यवधान भी पड़ा. बारिश थमने के बाद जब खेल शुरू हुआ तो हेजलवुड को बाबर आजम (8) का कीमती विकेट लिया लेकिन बारिश आने से ऑस्ट्रेलिया आगे कहर बरपाना जारी नहीं रख सका.