नई दिल्ली. एडिलेड टेस्ट में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर नए इतिहास की इबारत लिखी है. ऐसा नहीं कि आज तक ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर एक भी टेस्ट सीरीज नहीं जीतने वाली भारतीय टीम ने वहां इससे पहले कोई टेस्ट मैच नहीं जीता. लेकिन, ये पहली बार है जब उसने ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज की शुरुआत ही जोरदार जीत के साथ की है. यानी, ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज का ओपनिंग मैच जीतने का कमाल किया है. एडिलेड टेस्ट से पहले भारत ने ऑस्ट्रेलिया में 11 ओपनिंग मैच खेले, जिसमें जीतना तो दूर उन्हें 9 में मुंह की खानी पड़ी थी और 2 टेस्ट ड्रॉ रहे थे. Also Read - COVID-19: कोहली एंड कंपनी का ऑस्ट्रेलिया दौरा अधर में, ये है वजह

एडिलेड में 15 साल बाद टीम इंडिया की ऐतिहासिक जीत, ऑस्ट्रेलिया को 31 रन से हराया Also Read - कोरोना से जंग में किसी खिलाड़ी ने दान किए लाखों तो किसी के बड़े-बड़े बोल, फैंस भी हुए दुखी

विराट ने की धोनी और पटौदी की बराबरी Also Read - विराट कोहली हैं भारतीय क्रिकेट टीम के 'बॉस' : रवि शास्त्री

एडिलेड में मिली और किन-किन मायनों में खास है अब जरा वो समझिए. एडिलेड में टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को 31 रन से हराया. ये रनों के लिहाज से टीम इंडिया की तीसरी सबसे क्लोजेस्ट जीत है. इस जीत के साथ विराट ने SENA कंट्री यानी साउथ अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में सबसे ज्यादा टेस्ट जीतने के धोनी और टाइगर पटौदी के रिकॉर्ड की बराबरी भी कर ली है.

कप्तान कमाल है तो टीम तो धमाल करेगी ही

एडिलेड टेस्ट में जीत विराट कोहली की कप्तानी के लिए मील का पत्थर है. इसने उन्हें भारत का ही नहीं बल्कि एशिया का पहला ऐसा कप्तान बना दिया है जिसके नाम इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका में टेस्ट जीतने का तमगा जुड़ गया है. यही नहीं उनकी कप्तानी में टीम इंडिया एक कैलेंडर ईयर में ही इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका में टेस्ट मैच जीतने वाली एशिया की पहली टीम भी बन गई है.

अब बड़े ‘बदले’ की ताक में विराट एंड कंपनी

विराट एंड कंपनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज का आगाज तो धमाकेदार किया है, अब इन्हें इंतजार है मेजबान टीम की सरजमीं पर पहली टेस्ट सीरीज जीत की ओर कदम बढ़ाने का. भारत ने अगर टेस्ट सीरीज जीत ली तो ये ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने वाली पहली एशियाई टीम भी बन जाएगी.