मेलबर्न: भारत से वनडे सीरीज हारने के बाद ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर भी महेंद्र सिंह धोनी के मुरीद हो गए हैं. शुक्रवार को महेंद्र सिंह धोनी की तारीफ करते हुए लैंगर ने उन्हें सुपरस्टार और सर्वकालिक महान क्रिकेटरों में से एक बताया. उन्होंने यह भी कहा कि ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को धोनी से सीख लेनी चाहिए. Also Read - India vs England: मोटेरा में अक्षर-अश्विन का जलवा; पहले दिन स्टंप तक 13 रन से पीछे भारतीय टीम

Also Read - IND vs ENG: Amit Shah की दिली तमन्ना, पिंक बॉल टेस्ट में दोहरा शतक जड़ें Cheteshwar Pujara

धोनी ने तीसरे वनडे में 114 गेंद में नाबाद 87 रन बनाए जिसकी मदद से भारत ने सात विकेट से जीत दर्ज करके 2-1 से सीरीज अपने नाम की. लैंगर ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘‘धोनी 37 बरस का है लेकिन विकेटों के बीच उसकी दौड़ और फिटनेस गजब की है. लगातार तीन दिन विकेटों के बीच इस तरह दौड़ना और वह भी 40 डिग्री तापमान में और ऐसा प्रदर्शन. वह खेल का सुपरस्टार है जो ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों को बनने की कोशिश करनी चाहिए.’’ Also Read - India vs England: नए स्टेडियम की फ्लडलाइट्स को लेकर चिंतित हैं विराट कोहली; खिलाड़ियों के कैच छोड़ने का डर

नंबर 4 पर धोनी का रिकॉर्ड सबसे अच्छा, क्या वर्ल्ड कप में इसी पोजिशन पर करेंगे बैटिंग?

उन्होंने कहा, ‘‘एम एस धोनी, विराट कोहली और टेस्ट में चेतेश्वर पुजारा. ये सभी आदर्श हैं. एम एस धोनी का तो बतौर कप्तान, बल्लेबाज और विकेटकीपर रिकॉर्ड ही उनकी काबिलियत बताता है. वह महानतम क्रिकेटर हैं. हारना दुखद है लेकिन उनके खिलाफ खेलना फख्र की बात है.’’

ऑस्ट्रेलिया को हराने के बाद रवि शास्त्री का बयान, विवियन रिचर्ड्स की तरह बैटिंग करते हैं विराट कोहली

धोनी को 0 और 74 के स्कोर पर जीवनदान मिला और लैंगर ने इसे हार की वजह बताया. उन्होंने कहा, ‘‘दो बार एम एस धोनी का कैच छोड़ने से कोई मैच नहीं जीत सकता. हम मैच विनर्स की बात करते हैं जो उसने फिर बनकर बताया. यह हमारे बल्लेबाजों के लिए सबक था. युवाओं को उनसे सीखना चाहिये.’’