ब्रेडा: ऑस्ट्रेलियाई हॉकी टीम ने चैंपियंस ट्राफी के फाइनल मुकाबले में रविवार को भारत को शूटआउट में 3-1 (1-1) से हराकर 15वीं बार चैंपियन बनने का गौरव हासिल कर लिया. भारत दूसरी बार फाइनल में पहुंचकर भी खिताब से दूर रह गया. निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थीं. आस्ट्रेलिया के लिए गोवर्स ने 24वें मिनट में जबकि भारत के लिए विवेक सागर प्रसाद ने 42वें मिनट में बराबरी का गोल दागा.

शूटआउट में ऑस्ट्रेलिया के लिए जेलेवस्की, बीले और जेरेमी एडवर्ड ने गोल किए जबकि भारत के लिए मनप्रीत सिंह ने एकमात्र गोल दागा. भारत की ओर से सरदार सिंह, ललित उपाध्याय और हरमनप्रीत सिंह गोल नहीं कर सके. ऑस्ट्रेलिया ने इससे पहले 2016 में भी फाइनल में भारत को शूटआउट में मात देकर खिताब जीता था.

भारतीय टीम मुकाबले के पहले क्वार्टर में मिले दो पेनाल्टी कॉर्नर का फायदा नहीं पाई जबकि ऑस्ट्रेलिया ने 24वें मिनट में पहले ही पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील कर 1-0 की बढ़त हासिल कर ली. ऑस्ट्रेलिया के लिए यह गोल गोवर्स ने दागा. ऑस्ट्रेलिया ने इस बढ़त को हाफ टाइम तक कायम रखा.

दूसरे हाफ में 33वें मिनट में भारत को उसका चौथा पेनाल्टी कॉर्नर हासिल हुआ, लेकिन मनप्रीत इस मौके को गोल में तब्दील नहीं कर पाए. भारत ने अपना आक्रमण जारी रखा और 37वें मिनट में पेनाल्टी के लिए रेफरल मांगा लेकिन उसका यह रेफरल खारिज कर दिया गया.

मुकाबले के 42वें मिनट में भारत को उस समय एक बड़ी सफलता हाथ लगी जब विवेक सागर प्रसाद ने मैदानी गोल कर स्कोर 1-1 से बराबरी पर ला दिया. भारत ने तीसरे क्वार्टर की समाप्ति तक इस बराबरी को कायम रखा. मैच का चौथा और आखिरी क्वार्टर काफी रोमांचक रहा. भारत के पास 54वें मिनट में बढ़त लेने का मौका था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के गोलकीपर ने इसका शानदार बचाव कर भारतीय टीम को बढ़त नहीं लेने दिया.

मुकाबला समाप्त होने को पांच मिनट बचा था लेकिन दोनों टीमों में से कोई भी बढ़त नहीं ले पाई और मुकाबला शूटआउट में चला गया, जहां आस्ट्रेलिया ने भारत को 3-1 से शिकस्त देकर खिताब जीत लिया. इससे पहले, छह टीमों के इस टूर्नामेंट में मेजबान नीदरलैंड्स ने दिन के एक अन्य मैच में ओलंपिक चैंपियन अर्जेटीना को 2-0 से हराकर तीसरा स्थान हासिल किया. वहीं बेल्जियम ने पाकिस्तान को 2-1 से मात देकर पांचवां स्थान प्राप्त किया.