नई दिल्ली : टीम इंडिया के खिलाफ खेले जाने वाली टेस्ट सीरीज से पहले कप्तान टिम पेन ने ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाजों पर भरोसा जताया है. पेन ने कहा कि उनके खिलाड़ी विराट कोहली को अपनी गेंदबाजी से परेशान करने की क्षमता रखते हैं. उन्होंने टीम के साथी खिलाड़ियों के लिए कहा कि टेस्ट सीरीज के दौरान उन्हें ज्यादा भावुक होने की जरूरत नहीं हैं. उन्होंने एक अंग्रेजी क्रिकेट न्यूज वेबसाइट से बात करते हुए कहा कि अगर उनके गेंदबाज अपने टैलेंट के मुताबिक गेंदबाजी करेंगे तो कोहली निश्चित रूप से परेशान हो जायेंगे.

पेन ने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘कभी कभी जब हम काफी अधिक भावुक हो जाते हैं तो हम अपनी राह से थोड़ा भटक सकते हैं. मुझे यकीन है कि ऐसा समय भी आएगा जब वे तूफानी गेंदबाजी कर रहे होंगे. लेकिन हमें अपना धैर्य बरकरार रखने की जरूरत है जिससे कि हम अपने टैलेंट के मुताबिक काम कर सकें.’’

टीम इंडिया के ये 5 खिलाड़ी टेस्ट में करेंगे बेस्ट, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनेंगे ‘गेम चेंजर’

स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर एक-एक साल के प्रतिबंध के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम की बदलती टीम स्थिति पर काफी चर्चा हो रही है. कोच जस्टिन लैंगर ने भी मैदान पर कॉम्पिटिटिव होने के साथ-साथ सिद्धांतों के शीर्ष पर भी होने के महत्व पर बल दिया है. कोहली इससे पहले भी दो बार ऑस्ट्रेलिया का दौरा कर चुके हैं और आम तौर पर आक्रामक रुख अपनाने वाले भारतीय कप्तान ने कहा है कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी सीरीज में मैदान पर छींटाकशी की शुरुआत उनकी ओर से नहीं होगी.

पेन ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी को उनकी टीम कोहली को निशाना बनाने से नहीं हिचकिचाएगी लेकिन वे अपना काम सतर्कता के साथ करेंगे. पेन ने कहा, ‘‘मैंने जो देखा है उसके अनुसार वह ऐसा व्यक्ति है जिसे इस तरह की चीजें पसंद हैं.’’

VIDEO: दीपवीर के रिसेप्शन में पहुंचे धोनी, साक्षी ने छोड़ा साथ तो पांड्या संग क्लिक करवा ली फोटो

उन्होंने कहा, ‘‘अगर ऐसा समय आया कि हमें उसे कुछ बोलने की जरूरत होगी तो मुझे लगता है कि हमें उसे कुछ कहना होगा, मुझे यकीन है कि हम ऐसा करेंगे. अगर हम उसके खिलाफ अच्छी गेंदबाजी कर रहे होंगे और उसे परेशान कर रहे होंगे तो मुझे नहीं लगता कि हमें उसे कुछ बोलने की जरूरत है.’’

पेन ने कहा कि जब तक हद पार नहीं होती तब तक कोहली से आमने सामने के मुकाबले में कोई दिक्कत नहीं है. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह महत्वपूर्ण है कि खिलाड़ी उस तरीके से खेलें जो उनके अनुकूल है. अगर आप ऐसे खिलाड़ी हैं जिसे कोहली जैसे किसी खिलाड़ी के साथ आमने सामने का मुकाबला पसंद है तो आपकी मर्जी.’’ पेन ने कहा, ‘‘लेकिन मुझे नहीं लगता कि हद पार करने की जरूरत है और मुझे नहीं लगता कि जिन खिलाड़ियों को आम तौर पर ऐसा करना पसंद नहीं है उन्हें इसकी शुरुआत करने की जरूरत है.’’