शानदार एशेज सीरीज के बाद पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज स्टीव स्मिथ (Steve Smith) को वैसी शुरुआत नहीं मिली जिसकी उन्हें उम्मीद थी। पाकिस्तान के खिलाफ गाबा, ब्रिसबेन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने एक पारी और 5 रन से शानदार जीत दर्ज की लेकिन स्मिथ मात्र चार रन ही बना सके। जिसके बाद पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने खुद को सजा दी।Also Read - एशेज में 100 प्रतिशत फिट होकर खेलने के लिए टी20 विश्व कप की कुर्बानी देने को तैयार हैं स्टीव स्मिथ

Also Read - ICC Test Player Rankings 2021: केन विलियमसन फिर बने नंबर-1, रोहित ने बनाई छठे स्‍थान पर जगह, रिषभ पंत को घाटा

स्मिथ का कहना है कि वो हमेशा ही अच्छा प्रदर्शन करने पर खुद को चॉकलेट का ईनाम देते हैं और खराब प्रदर्शन पर सजा भुगतते हैं। गाबा टेस्ट में असफल होने पर स्मिथ ने टीम बस में ना जाकर स्टेडियम से होटल तक तीन किलोमीटर दौड़ लगाई। Also Read - वेस्टइंडीज दौरे से नाम वापस लेने वाले खिलाड़ियों के लिए टी20 विश्व कप में मौका पाना होगा मुश्किल: फिंच

गाबा टेस्ट में स्मिथ को आउट करने वाले पाक गेंदबाज यासिर शाह (Yasir Shah) ने टेस्ट क्रिकेट में सातवीं बार इस ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज का विकेट लिया। स्मिथ को सस्ते में आउट करने के बाद यासिर ने हाथों से सात नंबर का इशारा कर स्मिथ को सेंड-ऑफ भी दिया। मैच के बाद जब स्मिथ से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस सेंड-ऑफ ने मुझे अगले मैच में उसके खिलाफ और अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित किया है।

ICC Test Rankings: स्मिथ को पछाड़ने के करीब पहुंचे कोहली; टॉप-10 में शामिल हुए मयंक अग्रवाल

उन्होंने कहा, ‘‘ये (यासिर के सात उंगली दिखाने) मुझे अच्छा प्रदर्शन करने के लिए अधिक प्रेरित करेगा ताकि मैं इस गेंदबाज के खिलाफ आउट नहीं होऊं। मैं उसके खिलाफ ज्यादा अनुशासन से खेलूंगा।’’

इस विकेट पर उन्होंने कहा, ‘‘ये दिलचस्प है। उसने मुझे ऐसे समय आउट किया है जब मैं क्रीज पर नया था और तेजी से रन बनाने की जरूरत थी। दो बार शायद मैं दूसरी पारी में आउट हुआ हूं जहां मैं थोड़ बेपरवाह हो कर खेल रहा था। मैं ज्यादा चिंतित नहीं हूं।’’

ऑस्ट्रेलियाई टीम पहला मैच जीतकर दो मैचों की सीरीज में 1-0 से बढ़त हासिल कर चुकी है। सीरीज का दूसरा मैच अब 29 नवंबर को एडिलेड में खेला जाना है, जहां स्मिथ के पास यासिर के खिलाफ वापसी करने का मौका होगा और कंगारू टीम के पास पाकिस्तान को क्लीन स्वीप करने का।