मुंबईः भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच आगामी सीरीज 14 जनवरी से शुरू होने वाली है. दुनिया की लगभग हर टीम भारतीय टीम के खिलाफ एक अलग रणनीति बनाती है ताकि विराट बिग्रेड को हराया जा सके. ऐसा ही अब भारत दौरे पर आई ऑस्ट्रेलियाई टीम कर रही है. जहां एक ओर बैट्समैन अपनी रणनीति बनाने में लगे हुए हैं वहीं कोच एंड्रयू मैकडोनल्ड अपनी खास प्लानिंग बना रहे हैं. कोच मैकडोनल्ड की इस प्लानिंग का खुलासा तेज गेंदबाज केन रिचर्डसन(Ken Richardson) ने किया है. Also Read - INDvENG: 2019 से एक भी शतक नहीं बना पाएं हैं विराट कोहली, अब दर्ज हुआ ये शर्मनाक रिकॉर्ड

आस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज केन रिचर्डसन ने कहा कि कोच एंड्रयू मैकडोनल्ड(Andrew McDonald) ने यह जानने के लिये शनिवार रात को वानखेड़े स्टेडियम में बाहर शिविर लगाया कि ओस किस समय पड़ती है. रिचर्डसन ने कहा, ‘‘एंड्रयू मैकडोनल्ड ने यहां बीती रात शिविर लगाया ताकि वह जान सकें कि किस समय ओस पड़ती है. हर कोई बस अनुमान लगा रहा है. मुझे लगता है कि हर कोई तैयार है. ’’ Also Read - रिषभ पंत के शतक, वाशिंगटन सुंदर की अर्धशतकीय पारी से मजबूत स्थिति में भारत

उन्होंने कहा, ‘‘हम आज गीली गेंद से ट्रेनिंग करेंगे ताकि हम ओस में गेंदबाजी करने का अभ्यास कर सकें. हमें मैच के दिन का इंतजार करना और देखना होगा. यह नया नहीं है, हमारे यहां घरेलू मैदानों पर भी ओस पड़ती है. ’’ उन्होंने कहा कि विराट कोहली(Virat Kohli) की अगुआई वाली भारतीय टीम मंगलवार से यहां शुरू होने वाली तीन मैचों की श्रृंखला में घरेलू मैदान पर प्रबल दावेदर है लेकिन कहा कि उनकी टीम को भी हलके में नहीं लिया जा सकता. Also Read - India vs England 4th Test, Day 2 Highlights: दूसरे दिन का खेल खत्म- Rishabh Pant का शतक, इंग्लैंड से 89 रन आगे भारत

इस ऑस्ट्रेलियाई विकेटकीपर ने कही कुछ ऐसी बात जिसेे सुनकर MS Dhoni हो जाएंगे गदगद

दूसरा वनडे राजकोट (17 जनवरी) और तीसरा (19 जनवरी) बेंगलुरू में खेला जायेगा. रिचर्डसन ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि घरेलू टीम हमेशा प्रबल दावेदार होती है. मुझे लगता है कि फिंची (आरोन फिंच) ने कहा था कि किसी भी टीम ने यहां लगातार श्रृंखलायें नहीं जीती हैं. तो यह मुश्किल होने वाला है. ’’ पिछले साल आस्ट्रेलिया ने भारत में सीमित ओवरों की श्रृंखला में 0-2 से पिछड़कर वापसी करते हुए 3-2 से जीत हासिल की थी.

उन्होंने कहा, ‘‘भारत के खिलाफ उसकी सरजमीं पर खेलना हमेशा ही बड़ी चुनौती है और पिछले साल जो हुआ, वे इसके लिये तैयार होंगे. मनोबल बढ़ा हुआ है लेकिन घरेलू टीम हमेशा प्रबल दावेदार होती है. हम छुपेरूस्तम हैं. ’’