ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन (Tim Paine) ने शुक्रवार को कहा कि वो गर्दन की सर्जरी के बाद इंग्लैंड के खिलाफ एशेज सीरीज के लिए तैयार होने को लेकर ”बेहद आश्वस्त” हैं। 36 साल के विकेटकीपर बल्लेबाज ने गर्दन और बाएं हाथ में एक उभरी हुई डिस्क के कारण दर्द होने के बाद मंगलवार को सर्जरी करवाई।Also Read - भारत के खिलाफ वार्म अप मैच में इंग्लैंड को बड़ा झटका; विश्व कप ओपनर से बाहर हो सकते हैं लियाम लिविंगस्टोन

पेन ने कहा कि ऑपरेशन अच्छी तरह से हुआ और उन्होंने कहा कि वो छह हफ्ते की रिकवरी पर नजर बनाए हैं। दरअसल एशेज सीरीज का पहला टेस्ट 8 दिसंबर को ब्रिस्बेन में शुरू होने वाला है। Also Read - Bihar के डिप्‍टी CM ने कहा- भारत-पाक के बीच T20 WC मैच रुकनी चाहिए, BCCI उपाध्‍यक्ष ने कही ये बात

उन्होंने एसईएन स्पोर्ट्स रेडियो को बताया, “उन्होंने मेरे गले में एक बड़ा किया है, मेरे वॉयस बॉक्स को एक तरफ कर दिया है जो कि रीढ़ की हड्डी की तरह जाने से बेहतर है। मैं आपको बताता हूं कि मैं कल दर्द में था लेकिन आज बहुत बेहतर महसूस कर रहा हूँ।” Also Read - टी20 विश्व कप करियर की सबसे बड़ी जिम्मेदारी: हार्दिक पांड्या

पेन ने कहा कि उनके पास दर्द के साथ एशेज खेलने की कोशिश करने या इसे अभी ठीक करने का विकल्प था, और एक सर्जन की सलाह के बाद उन्होंने आगे बढ़ने का फैसला किया।

उन्होंने कहा, “जब ये तंत्रिका पर दबाव डाल रहा है, तो आप तंत्रिका को नुकसान पहुंचा सकते हैं और मैं, खासतौर पर अपने बाएं हाथ के साथ कोई लंबी समस्या नहीं चाहता था। मैं अपने बाएं हाथ में बहुत ताकत खो रहा था, और मुझे अपनी बांह के पिछले हिस्से में बहुत तरह का तंत्रिका दर्द हो रहा था।

ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा “मैं नहीं चाहता था कि ये स्थायी हो और मुझे लगता है कि अगर मैंने इसे बहुत लंबे समय तक अनदेखा किया होता ये स्थाई हो सकता है।”

उनका पूरा ध्यान अब आराम करने के बाद एशेज की तैयारी पर है। ब्रिस्बेन के बाद, सीरीज एडिलेड में आगे बढ़ेगी और इसके बाद मेलबर्न में पारंपरिक बॉक्सिंग डे टेस्ट, फिर सिडनी और पर्थ में मैच होंगे। हालांकि कोविड महामारी की वजह से वेन्यू में बदलाव किया जा सकता है।

उन्होंने कहा, “एशेज में अभी ढाई महीने बाकी हैं, और छह हफ्ते (की रिकवरी के) के बाद मैं सीधे अपने मैदान में उतरूंगा और मैं एक हफ्ते से 10 दिनों के बीच मैं पूरी तरह तैयार हो सकता हूं। 8 दिसंबर पहला टेस्ट है, और मुझे पूरा विश्वास है कि इससे पहले मेरा जाना सही होगा।”

ऑस्ट्रेलिया को भी 27 नवंबर से अफगानिस्तान के खिलाफ पहला टेस्ट मैच खेलना है। लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने इसे रद्द करने की धमकी दी है जब तक कि तालिबान शासन महिलाओं के खेलने पर लगाए बैन से पीछे नहीं हटता।