नई दिल्ली. आस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के बल्लेबाज ग्लेन मैक्सवेल ने एक तहकीकात में खुद को स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों से जोड़े जाने पर हैरानी जताई है. वेबसाइट ‘ईएसपीएनक्रिकइन्फो’ की रिपोर्ट के अनुसार, मैक्सवेल ने इस बात का खुलासा भी किया कि उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग के दौरान भ्रष्टाचार विरोधी अधिकारियों को मैदान पर होने वाले संदिग्ध कार्यक्रमों की सूचना दी थी. Also Read - IPL 2021 खत्म होने के बाद एक प्लेन में यूके जा सकते हैं भारत, न्यूजीलैंड, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी: मैक्सवेल

Also Read - IPL 2021: PBKS vs RCB Dream11 Team Prediction, Tips, Probable Playing 11 Details: एबी डिविलियर्स को चुनें कप्तान,जानिए ड्रीम 11 में किन खिलाड़ियों को दें स्थान

धोनी की ट्रेनिंग में तैयार हुआ टीम इंडिया का नया विकेटकीपर, टेस्ट सीरीज में दिखेगा जलवा Also Read - घर से ज्यादा आईपीएल के बायो-बबल में सुरक्षित महसूस कर रहा हूं: नाथन कूल्टर-नाइल

एक कथित टेलीविजन चैनल ‘अल जजीरा’ की ओर से जारी वृत्तचित्र में आस्ट्रेलिया के खिलाड़ियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए हैं. इसमें बताया गया है कि भारत के खिलाफ 2017 में रांची में हुए टेस्ट के दौरान आस्ट्रेलिया खिलाड़ी स्पॉट फिक्सिंग में शामिल थे. इस मैच में टेस्ट टीम में वापसी के बाद मैक्सवेल ने पहला शतक लगाया था.

टीम इंडिया ने बनाया इंग्लैंड को ‘दौड़ा-दौड़ा कर’ हराने का प्लान, VIDEO

इस वृत्तचित्र में हालांकि, मैक्सवेल का नाम नहीं दर्शाया गया है. मैच फुटेज ने उन पर थोड़ा सा संदेह खड़ा कर दिया है कि वह स्पॉट फिक्सिंग में शामिल दो खिलाड़ियों में से एक थे. मैक्सवेल ने कहा कि क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) ने उन्हें वृत्तचित्र के प्रसारण की जानकारी दी लेकिन भ्रष्टाचार विरोधी अधिकारियों ने उनसे इस मामले कोई सवालात नहीं किए.

INDvsENG: ‘चोट’ के चक्कर में विराट के साथ भी न हो जाए धोनी वाली अनहोनी!

‘एसईएन रेडियो’ को दिए बयान में मैक्सवेल ने कहा, “मैं काफी हैरान था और साथ ही थोड़ा दुखी भी था. जिस खेल से हमेशा आपकी अच्छी यादें जुड़ी रहती हैं. ऐसे खेल में आप पर इस प्रकार के आरोप लगना दुखद है. मुझे अब भी वह पल याद है, जब टेस्ट टीम में वापसी कर मैंने अपना पहला शतक लगाने के बाद स्टीव स्मिथ को गले लगाया था.” मैक्सवेल ने कहा, “इस प्रकार के आरोप बेहद निराशाजनक हैं. निश्चित तौर पर इनमें कोई भी सच्चाई नहीं है. यह 100 प्रतिशत गलत हैं.”