मेलबर्न: ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर्स संघ (एसीए) ने स्टंप माइक्रोफोन के उपयोग पर चिंता व्यक्त की है. संगठन के प्रमुख एलिस्टेयर निकोलसन ने कहा कि वह नहीं चाहते कि मैदान पर ‘गैरइरादतन और आकस्मिक’ बहस के कारण किसी खिलाड़ी को प्रतिबंध झेलना पड़े.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार एसीए ने स्टंप माइक्राफोन से खिलाड़ियों की आपसी बातचीत के प्रसारण पर आपत्ति जताई है. एसीए ने कहा कि वह स्टंप माइक्रोफोन के उपयोग के खिलाफ नहीं है लेकिन वह इसको लेकर नियमों में स्पष्टता चाहता है.

मेलबर्न टेस्ट में टीम इंडिया ने दोहराया 72 साल पुराना शर्मनाक रिकॉर्ड

निकोलसन ने मेलबर्न स्थित रेडियो स्टेशन ‘एसईएन’ से कहा, ‘‘मैं यह नहीं कहूंगा कि हम खुश नहीं हैं. खिलाड़ियों को पता है कि अनजाने में कही गई किसी भी बात का बतंगड़ बन सकता है. असल में हम नहीं चाहते कि खिलाड़ियों पर आचार संहिता के कारण जुर्माना लगाया जाए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह नकारात्मक नहीं बल्कि सावधानी है लेकिन हम इसके खिलाफ नहीं हैं.’’

टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर ने दूसरी पारी में किया ‘सरेंडर’, फिर भी मेलबर्न जेब के ‘अंदर’

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रही टेस्ट सीरीज के दौरान स्टंप माइक्रोफोन पर खिलाड़ियों की आपसी नोकझोंक भी सुनी गई. इनमें भारतीय कप्तान विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन के बीच पर्थ में दूसरे टेस्ट मैच के दौरान तीखी बहस भी शामिल है.