नई दिल्ली. ऑस्ट्रेलियाई टीम का बॉल टेम्परिंग विवाद लगातार तूल पकड़ रहा है. अब इस मामले में ऑस्ट्रेलियाई सरकार भी दखलअंदाजी पर उतर आई है. क्रिकेट वेबसाइट ईएसपीएन क्रिकइंफो के मुताबिक, ऑस्ट्रेलियाई टीम के गेंद से छेड़छाड़ की हरकत के बाद ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने इसमें अपना स्टैंड लेते हुए स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाए जाने के आदेश दे दिए हैं. ऑस्ट्रेलियाई सरकार का ये आदेश क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के इस पूरे मामले के जांच के आदेश दिए जाने के थोड़ी देर बाद ही आया है. ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को फटकार लगाते हुए स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाए जाने का आदेश दिया.

 

ऑस्ट्रेलियाई सरकार का आदेश

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री माल्कम टर्नबल ने बॉल टेम्परिंग पर अपनी बात रखते हुए कहा है कि ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने बॉल टेम्परिंग कर क्रिकेट ऑस्ट्रेलियाई को धोखे में रखा है. वो ऐसा कैसे कर सकते हैं. ये खिलाड़ी रॉल मॉडल हैं जो अपने देश का प्रतिनिधित्व करते हैं. उनकी इस हरकत से देश की भी बदनामी हुई है.” ऑस्ट्रेलियाई प्रधान मंत्री ने इस मसले पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के चेयरमैन डेविड पीवर से भी बात की है. उन्होंने कहा कि, ” मैंने उन्हें बता दिया है कि साउथ अफ्रीका में किए खिलाड़ियों की हरकत से मैं खफा हूं. मैं चाहूंगा कि वो इस पर कड़ी कार्रवाई करें.”

ऑस्ट्रेलियाई PM के अलावा ऑस्ट्रेलियन स्पोर्ट्स कमीशन ने कप्तान के साथ साथ टीम के खिलाफ भी सख्त कदम उठाने की बात कही है. ऑस्ट्रेलियन स्पोर्ट्स कमीशन का कहना है कि, ” खिलाड़ी जब खेल रहे होते हैं तो वो अपने देश का प्रतिनिधित्व करते हैं. ऐसे में वो मैदान पर कोई भी गलत हरकत जानबूझ कर करते हैं तो इससे देश की बदनामी होती है.”

After Ball tempering controversy Steve smith captaincy is in danger, Sutherland launches tampering probe ! बॉल टेम्परिंग से ‘कटी नाक’ तो ऑस्ट्रेलिया के होश आए ठिकाने , स्मिथ की कप्तानी पर लटकी ‘तलवार’

After Ball tempering controversy Steve smith captaincy is in danger, Sutherland launches tampering probe ! बॉल टेम्परिंग से ‘कटी नाक’ तो ऑस्ट्रेलिया के होश आए ठिकाने , स्मिथ की कप्तानी पर लटकी ‘तलवार’

स्मिथ तो नप गए 

केपटाउन टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के बॉल टेम्परिंग करने के बाद पूरी दुनिया में ऑस्ट्रेलिया की सरेआम खिल्ली उड़ी और उसे बड़ी बदनामी से दो-चार होना पड़ा. केपटाउन में गेंद से छेड़छाड़ की बात को कंगारू कप्तान स्टीव स्मिथ ने भी पोस्ट मैच कॉन्फ्रेंस में स्वीकारा, जिसके बाद इस मामले ने और भी तूल पकड़ लिया. इस घटना को स्मिथ के स्वीकारने और इससे हुई ऑस्ट्रेलिया की हुई बदनामी से नाराज ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने अब स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाने का क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को आदेश दे दिया है.

किया है तो भुगतना तो पड़ेगा

बता दें कि स्मिथ ने बॉल टेम्परिंग की घटना के बाद ये बात भी स्वीकारी थी कि ये सिर्फ कैमरून बेनक्रॉफ्ट का आइडिया नहीं था बल्कि इसके पीछे पूरी टीम की मिली-भगत थी. स्मिथ की टीम की मिली-भगत की बात को मानने के बाद ऑस्ट्रेलियन स्पोर्ट्स कमीशन इस मामले में तुरंत हरकत में आ गया.

स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाए जाने की मांग को बॉल टेम्परिंग विवाद के उछलने के बाद से ही होने लगी थी. लेकिन. जेम्स सदरलैंड ने कहा था कि जब तक हमारे अधिकारी इस मामले की तह तक नहीं पहुंचते तब तक हम इस मामले में आखिरी नतीजे तक नहीं पहुंच सकते.

खुद कप्तान स्मिथ ने भी गुहार लगाई थी कि जब मैनें अपनी गलती स्वीकार ली है तो मुझे कप्तानी से नहीं हटाया जाना चाहिए क्योंकि मैं फिलहाल इस भूमिका के लिए सबसे बेहतर विकल्प हूं.

लेकिन, अब इस पूरे मामले में ऑस्ट्रेलिया की सरकार शामिल हो गई है और वो अपने क्रिकेटरों की इस हरकत से पूरी तरह से नाराज है जिससे देश की बदनामी हुई है.