नई दिल्ली : दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने कहा है कि केपटाउन में हुए बॉल टेम्परिंग विवाद के बाद जो हुआ उससे ऑस्ट्रेलियाई टीम के व्यवहार में बदलाव आया जो उन्होंने हालिया दौरे पर नोटिस किया. फाफ ने साथ ही ऑस्ट्रेलिया को भारत के खिलाफ होने वाली सीरीज के लिए सलाह देते हुए कहा है कि अगर मेजबान टीम को विराट कोहली को शांत रखना है तो उन्हें चुप रहना होगा.

केपटाउन टेस्ट में जो हुआ उसके बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने जांच समिति गठित की थी जिसने ऑस्ट्रेलिया के हर हाल में जीत हासिल करने की जिद को इसका जिम्मेदार बताया है. विवाद के बाद ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने लगातार स्लेजिग न करने साथ ही मैदान के अंदर और बाहर आक्रमकात को कम करने को लेकर बातें कही हैं.

एक अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट ने डु प्लेसिस के हवाले से लिखा है, “ऑस्ट्रेलिया के मैदान के अंदर और बाहर के व्यवहार में निश्चित तौर पर अंतर आया है. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलना हमेशा से मुश्किल रहता था क्योंकि वो खतरनाक टीम है.” उन्होंने कहा, “उस समय से अब इस टीम की तुलना कम करने पर पता चलता है कि उन्होंने अपनी आक्रामकता में कमी की है और क्रिकेट से ज्यादा बात की है. इसी तरह खेल आगे बढ़ता है.”

IPL 2019: KKR ने जॉनसन समेत कई खिलाड़ियों को किया बाहर, शिवम मावी-शुभमन गिल हुए रिटेन

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान ने कहा, “अगर आप पहले की सीरीज और इस सीरीज की तुलना करते हैं तो ऑस्ट्रेलिया टीम का मैदान पर व्यवहार जिस तरह का रहा है वह अलग है. मेरा मानना है कि यह वो बदलाव है जिससे ऑस्ट्रेलिया गुजर रही है और एक नई संस्कृति बना रही है.”

डु प्लेसिस ने कोहली को लेकर कहा कि वह ऐसे बल्लेबाज हैं जो उलझना पसंद करते हैं और ऑस्ट्रेलिया को ऐसा ही नहीं होने देना है. उन्होंने कहा, “अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो उलझना चाहते हैं. हमें ऐसा लगता है कि जब हम विराट कोहली जैसे खिलाड़ी के खिलाफ खेलते हैं तो वह भी इस तरह के हैं जो उलझना पसंद करते हैं.”

ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए रवाना हुई टीम इंडिया, कुलदीप को रोमांचक चुनौतियों का इंतजार

डु प्लेसिस ने कहा, “हर टीम में एक-दो खिलाड़ी ऐसे होते हैं जिनके बारे में हम एक टीम के तौर पर विचार करते हैं. हमने कोहली को दक्षिण अफ्रीका में कुछ भी नहीं बोला था लेकिन फिर भी वह स्कोर कर गए थे. हालांकि उन्होंने सिर्फ एक शतक बनाया था लेकिन हमें लगता है कि वह काफी था. हर टीम का अलग तरीका है. विराट के खिलाफ हम चुप रहना पसंद करेंगे.”