पाकिस्तान की नई रन मशीन और कप्तान बाबर आजम (Babar Azam) का जलवा जारी है. आईसीसी ने उन्हें अप्रैल महीने के लिए प्लेयर ऑफ द मंथ (ICC Player Of The Month) के रूप में चुना है. अप्रैल महीने में इस स्टायलिश बल्लेबाज ने 3 वनडे मैचों में 76 के औसत से 228 रन बनाए, जबकि 7 टी20 इंटरनेशनल मैचों में उन्होंने 43.57 के एवरेज से कुल 305 रन अपने नाम किए.Also Read - एशिया कप में तीन बार संभव है भारत-पाकिस्‍तान मुकाबला, जानें कैसे?

इसी दौरान उन्होंने आईसीसी वनडे रैंकिंग में पहले स्थान पर पर पहुंचकर अपनी बादशाहत कायम की. इस महीने के लिए आईसीसी ने बाबर आजम के अलावा पाकिस्तान के ही एक और बल्लेबाज फखर जमां (Fakhar Zaman) और नेपाल के युवा बल्लेबाज कुशल भरतेल (Kushal Bhurtel) को नामित किया था. Also Read - टी20 रैंकिंग में सूर्यकुमार यादव का कमाल, बाबर आजम की बादशाहत खत्‍म करने के करीब

Also Read - PAK vs ENG- 17 साल बाद पाकिस्तान आएगी इंग्लैंड की टीम, 7 टी20I मैचों की सीरीज का शेड्यूल जारी

अप्रैल में पाकिस्तानी टीम ने साउथ अफ्रीका और जिम्बाब्वे का दौरा किया था. यहां उन्होंने 3 वनडे और 4 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले. इसके बाद पाकिस्तानी ने जिम्बाब्वे के खिलाफ 3 टी20 मैचों की सीरीज खेली. सीमित ओवरों की इन तीनों सीरीज पाकिस्तान के कप्तान बाबर आजम का बल्ला लगातार रन उगलता रहा. इस दौरान वह विराट कोहली को पछाड़कर T20 इंटरनेशनल में सबसे तेज 2000 रन पूरे करने वाले बल्लेबाज भी बने.

26 वर्षीय इस बल्लेबाज ने पिछले ही महीने आईसीसी एकदिवसीय रैंकिंग में भारतीय कप्तान विराट कोहली को पछाड़कर नंबर एक बल्लेबाज का तमगा हासिल किया था. उन्होंने साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे वनडे में 82 गेंद में 94 रन की मैच विजेता पारी खेली थी, जिससे उन्हें 13 रेटिंग अंक का फायदा हुआ. इसकी बदौलत वह करियर की सर्वश्रेष्ठ 865 अंक पर पहुंचे. उन्होंने तीसरे टी20 में भी 59 गेंद में 122 रन की पारी खेली जिससे पाकिस्तान की टीम लक्ष्य हासिल करने में सफल रही.

बाबर के अलावा 24 साल के नेपाली बल्लेबाज भुरतेल भी इस प्रतिष्ठित अवॉर्ड के बड़े दावेदार लग रहे थे. उन्होंने नीदरलैंड्स और मलेशिया के खिलाफ खेली गई त्रिकोणीय सीरीज से अपने इंटरनेशनल करियर का आगाज किया था. इस सीरीज से वह दुनिया के पहले ऐसे बल्लेबाज बने, जिन्होंने करियर के पहले तीन टी20 इंटरनेशनल मैचों में लगातार 3 फिफ्टी जमाई. हालांकि वह आईसीसी का पहला यह खिताब जीतने में बाबर आजम को नहीं पछाड़ पाए.