भारत के दो दिग्गज बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल (Saina Nehwal) और किदांबी श्रीकांत (Kidambi Srikanth) की ओलंपिक में एट्री का करारा झटका लगा है. इस साल तोक्यो में होने ओलंपिस खेलों से पहले बैडमिंटन में क्वॉलीफाइ करने के लिए दो ही प्रतियोगिता बची थीं, जिनमें से एक मलेशिया ओपन सुपर 750 टूर्नामेंट को मेजबान देश ने कोविड- 19 के मामले बढ़ने के कारण स्थगित करने का फैसला लिया है. Also Read - BFI के इस ऐलान से साइना-श्रीकांत का तोक्यो ओलंपिक का सपना टूटा

मलेशिया ओपन के स्थगित होने से साइना नेहवाल और किदाम्बी श्रीकांत जैसे भारतीय खिलाड़ी अब तोक्यो खेलों में जगह नहीं बना पाएंगे. यह 6,00,000 डॉलर इनामी प्रतियोगिता 25 से 30 मई के बीच कुआलालम्पुर में आयोजित की जानी थी. Also Read - बैडमिंटन: स्विस ओपन के क्वॉर्टर फाइनल में पहुंचे PV Sindhu, श्रीकांत और जयराम

विश्व बैडमिंटन संघ (BWF) ने अपने बयान में कहा, ‘आयोजकों और बीडब्ल्यूएफ ने सभी भागीदारों के लिए सुरक्षित टूर्नामेंट वातावरण मुहैया कराने के लिए अपनी तरफ से सभी प्रयास किए. लेकिन हाल में मामले बढ़ने के कारण टूर्नामेंट स्थगित करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था.’ Also Read - बैडमिंटन: थाईलैंड ओपन में भारत का निराशाजनक प्रदर्शन, सभी वर्गों से बाहर

इसमें कहा गया है, ‘बीडब्ल्यूएफ पुष्टि करता है कि नए कार्यक्रम में होने वाला टूर्नामेंट ओलंपिक विंडो के अंतर्गत नहीं आएगा. नए टूर्नामेंट की तिथियों की बाद में पुष्टि की जाएगी.’ यह फैसला लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना और पुरुष स्टार श्रीकांत की ओलंपिक में जगह बनाने की उम्मीदों के लिए करारा झटका है.

इंडिया ओपन (11 से 16 मई) के स्थगित होने के बाद साइना और श्रीकांत की तोक्यो ओलंपिक के लिए क्वॉलीफाई करने की उम्मीदें मलेशिया ओपन और फिर सिंगापुर ओपन (एक से छह जून) पर टिकी थीं. भारत के इन दोनों खिलाड़ियों का सिंगापुर में प्रतियोगिता में हिस्सा लेना मुश्किल है क्योंकि उस देश ने भारत से सभी उड़ान निलंबित कर रखी हैं.

इनपुट: भाषा