दिग्गज भारतीय हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर की तबीयत खराब होने की वजह से उनहें मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बलबीर सिंह 3 बार के ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट टीम के सदस्य रहे हैं. Also Read - विराट कोहली ने महान हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर जताया दुख, भज्जी ने कुछ इस तरह से किया याद

कल शाम को नानाजी की तबीयत अचानक खराब हुई. अभी भी उनकी हालत नाजुक बनी हुई है लेकिन कल से बेहतर है. उन्हें फोर्टिस में भर्ती कराया गया है जहां वह आईसीयू में वेंटिलेटर पर हैं.’ 95 वर्ष के बलबीर को पिछले साल श्वसन संबंधी तकलीफ के कारण कई सप्ताह चंडीगढ के पीजीआईएमईआर में बिताने पड़े थे. Also Read - तीन बार के ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट दिग्गज हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह सीनियर का निधन

‘104 डिग्री बुखार था’ Also Read - कोरोना संकट के दौर में मानसिक बीमारी से खुद को ऐसे बचाएं

विश्व कप 1975 विजेता भारतीय टीम के डॉक्टर रहे बलबीर सीनियर के पारिवारिक डॉक्टर राजिंदर कालरा ने कहा ,‘बलबीर को गुरुवार की रात 104 डिग्री बुखार था. पहले हमने उन्हें घर पर स्पंज बाथ दिया लेकिन उनकी तबीयत में सुधार नहीं होने पर हमने उन्हें पीजीआई चंडीगढ में भर्ती कराने की कोशिश की.’

उन्होंने कहा,‘लेकिन चूंकि पीजीआई चंडीगढ कोविड अस्पताल है तो आईसीयू में उन्हें दाखिल कराना मुश्किल था. इसके बाद उन्हें फोर्टिस ले जाया गया जहां वह पहले भी तीन चार बार रह चुके हैं.’

उन्होंने कहा, ‘वह अभी आईसीयू में है लेकिन कल से बेहतर हैं. उनका कोविड-19 टेस्ट भी कराया गया और उसकी रिपोर्ट आना बाकी है.’

‘गोल्ड मेडल जीत में अहम भूमिका निभाई थी’

बलबीर ने लंदन (1948), हेलसिंकी (1952) और मेलबर्न (1956) ओलंपिक में भारत के स्वर्ण पदक जीतने में अहम भूमिका निभाई थी. हेलसिंकी ओलंपिक में नीदरलैंड के खिलाफ 6-1 से मिली जीत में उन्होंने पांच गोल किये थे और यह रिकॉर्ड अभी भी बरकरार है. वह 1975 विश्व कप विजेता भारतीय हॉकी टीम के मैनेजर भी रहे.