कोरोनावायरस (Coronavirus) के चलते पैदा हुई परिस्थितियों में क्रिकेट के नियमों में भारी बदलाव किए गए हैं. अब टेस्‍ट मैच में थूक के इस्‍तेमाल पर पूरी तरह से रोक रहेगी. नियम का उल्‍लंघन करने पर विरोधी टीम को अतिरिक्‍त पांच रन दिए जाएंगे. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर (Mark Taylor) ने आगाह किया कि कोविड-19 के खतरे को रोकने के लिये लार के उपयोग पर प्रतिबंध से टेस्ट क्रिकेट में बल्ले और गेंद के बीच संतुलन बिगड़ सकता है.Also Read - Omicron variant new strain: इंदौर में ओमीक्रोन वैरियंट के नए स्ट्रेन BA.2 के कई मामल मिले, 6 बच्चे भी आए चपेट में

मार्क टेलर ने चैनल 9 से कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह थोड़ा चिंता का विषय है क्योंकि मैं विशेषकर टेस्ट क्रिकेट में चाहता हूं कि गेंद बल्ले पर थोड़ा दबदबा बनाये. जब टेस्ट क्रिकेट इस तरह से खेला जाता है तो वह बेहतर मैच होता है. ’’ Also Read - West Bengal: स्कूल-कॉलेजों को खोलने की मांग, कहा- जब शराब की दुकानें खुल सकती हैं तो कोरोना नियमों के साथ शिक्षण संस्थान क्यों नहीं?

इस 55 वर्षीय पूर्व सलामी बल्लेबाज को लगता है कि गेंद पर लार नहीं लगाने से बल्लेबाज के लिये गेंद का अनुमान लगाना आसान हो जाएगा.
‘‘मेरी चिंता यह है कि अगर खिलाड़ी गेंद को नहीं चमका पाएगा और गेंद सीधी जाती है और उसका अनुमान लगाया जा सकता है तो फिर अधिक से अधिक रन बनेंगे, टेस्ट क्रिकेट में बड़े से बड़े स्कोर देखने को मिलेंगे. ’’ Also Read - Delhi, Mumbai में घटी कोरोना की रफ्तार, कर्नाटक में बड़ी संख्‍या में आए केस, देखें अपने राज्य का अपडेट

टेलर ने कहा, ‘‘और यह सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेट नहीं है. टेस्ट क्रिकेट तब बेहतर होता है जबकि स्कोर 300 रन के आसपास हो.’’ आईसीसी के नये नियमों के अनुसार गेंद पर लार लगाने पर खिलाड़ी को दो बार चेतावनी दी जाएगी. अगर वह फिर से ऐसा करता है तो टीम को पांच रन की पेनल्टी भुगतनी पड़ेगी.