विश्‍व कप 2019 (ICC World Cup 2019) में धमाकेदार प्रदर्शन करने वाले बांग्लादेश के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) पर आईसीसी एक साल का बैन लगा चुकी है. सट्टेबाजों द्वारा संपर्क किए जाने के बावजूद इसकी जानकारी छुपाने के कारण उनपर यह प्रतिबंध लगाया गया है. शाकिब ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मैंने ये ‘बेवकूफाना गलती’ की थी.Also Read - पाकिस्तानी कप्तान बाबर आजम ने जीता 2021 का ICC ODI प्लेयर ऑफ द ईयर अवार्ड

PCB की कोरोना रिपोर्ट पर मोहम्‍मद हफीज का जवाब, एक दिन पहले कराया टेस्‍ट रहा था नेगेटिव Also Read - अगले तीन साल क्रिकेट खेलना चाहते हैं Ambati Rayudu, बोले- मेरी नजर अब केवल इस टूर्नामेंट पर

शाकिब (Shakib Al Hasan) पर लगा प्रतिबंध 29 अक्टूबर को खत्म होगा. ‘क्रिकबज इन कनवर्शेशन’ के दौरान शाकिब ने हर्षा भोगले से कहा, ‘‘जब मैं भ्रष्टाचार रोधी अधिकारी से मिला तो मैंने संपर्क करने की घटना को काफी हल्के में लिया और उन्हें बता दिया और उन्हें सब पता है. उन्हें सभी साक्ष्य दिए और जो हुआ उन्हें सब पता है.’’ Also Read - Omicron की चपेट में खिलाड़ी, खेल जगत में मचा हड़कंप

आईसीसी की जांच के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो यही एकमात्र कारण है कि मुझे एक साल के लिए प्रतिबंधित किया गया, अन्यथा मुझ पर पांच या 10 साल का प्रतिबंध लगता.’’

‘‘मुझे लगता है कि मैंने बेवकूफाना गलती की क्योंकि अपने अनुभव और मैंने जितने अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं और आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी आचार संहिता की जितनी क्लास ली हैं उसके आधार पर मुझे फैसला करना चाहिए था.’’

विराट कोहली: टेस्ट क्रिकेट सर्वश्रेष्‍ठ, भाग्यशाली हूं भारत के लिए लंबे प्रारूप में खेल पाया

इस घटना से सबक सीख चुके शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) ने सभी युवा क्रिकेटरों को सलाह दी कि इस तरह के संदेशों को कभी हल्के में नहीं लें. ‘‘मुझे इसका खेद है. किसी को भी इस तरह के संदेशों या फोन (सट्टेबाजों के) को हल्के में नहीं लेना चाहिए या नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. सुरक्षित रहने के लिए हमें इसकी जानकारी आईसीसी की भ्रष्टाचार रोधी इकाई के अधिकारी को देनी चाहिए और मैंने यह सबक सीखा और मुझे लगता है कि यह बड़ा सबक है.’’