मीरपुर। बांग्लादेश क्रिकेट टीम ने शेरे बांग्ला नेशनल स्टेडियम में रविवार को हुए दूसरे अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैच में इंग्लैंड को 34 रनों से हरा दिया। बांग्लादेश ने 239 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की पारी 44.4 ओवरों में 204 रनों पर समेट दी।

कप्तान मशरफे मुर्तजा बांग्लादेश की जीत के नायक रहे। मुर्तजा ने पहले बल्लेबाजी करते हुए तेज-तर्रार पारी खेलकर बांग्लादेश को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया और उसके बाद इंग्लैंड के चार बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाकर उनकी पारी समेटने में अहम भूमिका निभाई।इंग्लैंड के पिछले प्रदर्शनों को देखते हुए 239 रनों के लक्ष्य को चुनौतीपूर्ण तो नहीं कहा जा सकता, लेकिन 10 ओवरों के अंदर 26 रन तक पहुंचते-पहुंचते चार विकेट गंवाने के बाद जरूर यह सामान्य सा स्कोर चुनौतीपूर्ण लगने लगा था। मुर्तजा ने दोनों सलामी बल्लेबाजों जेसन रॉय (13) और जेम्स विंस (5) को आउट कर बांग्लादेश को शुरुआती सफलता दिलाई। इस बीच शाकिब अल हसन ने बेन डकेट को शून्य के निजी योग पर पवेलियन की राह दिखाई।

बेन स्टोक्स भी संघर्ष करते नजर आए और खाता खोले बगैर मुर्तजा का तीसरा शिकार हो पवेलियन लौटे। इसके बाद जॉनी बेयरस्टो (35) को कप्तान जोस बटलर (57) का साथ मिला। दोनों ने पांचवें विकेट के लिए 79 रन जोड़े और इंग्लैंड का स्कोर 100 के पार पहुंचाया। तस्कीन अहमद ने यहां बेयरस्टो के रूप में इंग्लैंड को एक और झटका दे दिया।

बांग्लादेश के गेंदबाजों ने यहां जबरदस्त वापसी की और इंग्लैंड को संभलने का मौका दिए बगैर मोइन अली (3) और क्रिस वोक्स (7) के विकेट चटका डाले। तस्कीन अहमद ने 57 गेंदों पर सात चौकों के साथ अर्धशतक बनाकर जमे हुए बटलर को आउट कर इंग्लैंड को करारा झटका दे दिया। इंग्लैंड 29.1 ओवर में 132 के कुल स्कोर पर अपने आठ विकेट गंवा चुका था। उसे अभी भी 125 गेंदों में 107 रनों की दरकार थी और विकेट दो ही बचे थे। यह भी पढ़े-तमीम बांग्लादेश के लिए 9,000 रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज

आदिल राशिद (नाबाद 33) ने हालांकि इसके बाद पहले डेविड विली (9) के साथ धीमी गति से 27 रन जोड़े और उसके बाद जैक बॉल (28) के साथ रनों की गति बढ़ाते हुए 45 रनों की साझेदारी कर टीम को 200 के पार पहुंचाया और लक्ष्य हासिल करने की उम्मीद बढ़ा दी।

लेकिन बॉल 45वें ओवर में मुर्तजा की गेंद पर नासिर हुसैन की ओर कैच उठा बैठे और इंग्लैंड लक्ष्य से 34 रन दूर रह गया। मुर्तजा के अलावा तस्कीन अहमद ने तीन विकेट चटकाए। इससे पहले, बांग्लादेश ने शुरुआती झटकों से उबरते हुए महमुदुल्ला (75) और मुर्तजा (44) की बदौलत निर्धारित 50 ओवोरों में आठ विकेट गंवाकर 238 रन बनाए।

बांग्लादेश की शुरुआत हालांकि अच्छी नहीं रही थी। क्रिस वोक्स ने बांग्लादेश के दोनों सलामी बल्लेबाजों तमीम इकबाल (14) और इमरूल कायेस (11) को पवेलियन की राह दिखा इंग्लैंड को शुरुआती सफलताएं दिला दीं।

सब्बीर रहमान (3) भी सस्ते में पवेलियन लौट गए और बांग्लादेश 39 रनों पर तीन विकेट गंवाकर संकट में आ गई। इसके बाद महमुदुल्ला (75) ने संयत भरी पारी खेली और बांग्लादेश को कुछ हद तक स्थायित्व दिया।

महमुदुल्ला ने मुशफिकुर रहीम (21) के साथ चौथे विकेट के लिए 50 रनों की साझेदारी निभाई। हालांकि बांग्लादेश के स्टार हरफनमौला खिलाड़ी शाकिब अल हसन (3) आज कुछ खास नहीं कर सके।

महमुदुल्ला ने मोसद्देक हुसैन (29) के साथ छठे विकेट के लिए 48 रनों की साझेदारी कर टीम को एकबार फिर संभालने की कोशिश की। हालांकि इस बार महमुदुल्ला खुद राशिद की गेंद पर पगबाधा करार दिए गए। उन्होंने 88 गेंदें खेलीं और छह चौके लगाए।

आखिरी ओवरों में नासिर हुसैन (नाबाद 27) और कप्तान मुर्तजा ने बेहतरीन साझेदारी की। दोनों बल्लेबाजों ने तेज हाथ दिखाते हुए 8.44 की रन गति से 69 रन जोड़ डाले और बांग्लादेश को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

29 गेंदों पर दो चौके और तीन छक्के जमा चुके मुर्तजा आखिरी ओवर की पांचवीं गेंद पर रन चुराने के प्रयास में रन आउट हो गए।

इंग्लैंड के लिए वोक्स, राशिद और जैक बॉल को दो-दो विकेट मिले। तीन मैचों की श्रृंखला में अब दोनों देश 1-1 की बराबरी पर आ गए हैं और इसके साथ ही 12 अक्टूबर को चटगांव में होने वाला श्रृंखला का अंतिम एकदिवसीय फाइनल जैसा हो गया है।