हाल ही में बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) के अध्यक्ष नजमुल हसन ने ये बया दिया था कि उन्होंने टीम मैनेजमेंट से उन्हें प्लेइंग इलेवन से जुड़ी जानकारी देने के लिए कहा है। जाहिर है कि किसी भी कोच के लिए टीम से जुड़े मामलों में प्रशासन की इस तरह की दखलअंदाजी हैरान करने वाली होगी, हालांकि बांग्लादेश के कोच रसेल डोमिंगो का कहना है कि उनके लिए ये नई बात नहीं है। Also Read - कोरोना से लड़ने के लिए सिंधु ने दिए 10 लाख रुपये दान, मदद के लिए आगे आए पाकिस्तान और बांग्लादेश के क्रिकेटर

मुख्य कोच डोमिंगो ने कहा, “आप लोगों को याद है ना कि मैं दक्षिण अफ्रीका से हूं। वहां पर भी कई परेशानियों होती है। ऐसा नहीं है कि मैं इंग्लैंड या ऑस्ट्रेलिया से आया हूं जहां पर आप जो चाहते हैं वो करना आसान है। दक्षिण अफ्रीका में भी चीजें मुश्किल हैं, चयन आसान नहीं है।” Also Read - पूर्व गेंदबाज अब्दुर रज्जाक को चयनसमिति का हिस्सा बनाना चाहता है बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड

उन्होंने कहा, “यहां अलग राय और एजेंडे वाले कई लोग हैं। ये मेरा काम है और मुझे इससे निपटना है। सबसे अहम चीज है कि मैं खिलाड़ियों और कप्तान को इससे दूर रखूं। मुझे उनके बीच मध्यस्थता पर काम करना है। ये बड़ी भूमिका है लेकिन मैंने दक्षिण अफ्रीका में पहले ये किया है।” Also Read - बांग्लादेश क्रिकेट टीम के बल्लेबाजी सलाहकार नहीं बन सकते संजय बांगड़, ये है कारण

वेलिंगटन टेस्ट : केन विलियमसन-रॉस टेलर की साझेदारी के दम पर न्यूजीलैंड टिकी, टी तक का स्कोर 116/2

भले ही बीसीबी अध्यक्ष ने मीडिया के सामने बयान दिया हो लेकिन डोमिंगो का कहना है उन्हें आधिकारिक तौर पर टीम की रणनीति बोर्ड के साथ साझा करने का कोई फरमान नहीं मिला है।

उन्होंने कहा, “बोर्ड अध्यक्ष के साथ मेरा व्यवहार बहुत सौहार्दपूर्ण है। वो चाहते हैं कि टीम अच्छा करे। मैंने उनसे अभी तक बात नहीं की है। मुझे इस बारे में कोई आधिकारिक सूचना नहीं मिली है कि मुझे किसी को टीम से जुड़ी जानकारी देनी है। मैं ऐसी किसी धारणा में नहीं हूं कि मुझे ये करना ही है। मैंने अध्यक्ष की तरह की टीम को लेकर बेहद जुनूनी हूं। मुझे फैसला लेने और अपना काम के लिए वेतन मिलता है।”