ढाका: बॉल टेम्परिंग मामले में एक साल का प्रतिबंध झेल रहे ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीवन स्मिथ के लिए राहत की खबर आई है. आश्चर्य है कि ये खबर बांग्लादेश से आई है क्योंकि उनके अपने देश में तो यह मुद्दा एक बार फिर गर्मागर्म बहस का कारण बना हुआ है. स्मिथ के लिए अच्छी खबर ये है कि उन्हें बांग्लादेश प्रीमियर लीग में खेलने की अनुमति मिल गई है. बांग्लादेश के क्रिकेट अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि कुछ टीमों की फ्रेंचाइजी ने पहले उनके खेलने पर आपत्ति जताई थी. अब उन्होंने आपत्ति वापस ले ली है.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने पर एक साल का प्रतिबंध झेल रहे स्मिथ अब पांच जनवरी से शुरू हो रहे बांग्लादेश प्रीमियर लीग में कोमिला विक्टोरियंस के लिए खेल सकते हैं. स्मिथ ने टीम के साथ करार कर लिया है और जनवरी के बीच में बीपीएल के दूसरे सत्र में टीम से जुड़ेंगे. वह पाकिस्तान के शोएब मलिक की जगह खेल रहे हैं. बीसीबी प्रवक्ता जलाल युनूस ने कहा ,‘‘ हम पहले उन्हें अनुमति नहीं दे सके क्योंकि दूसरी फ्रेंचाइजी ने आपत्ति जताई थी. हमें आज चार फ्रेंचाइजी ने ईमेल भेजकर कहा कि उन्होंने आपत्ति वापिस ले ली है.

रिकी पोंटिंग की एक और उलटबांसी, कहा- पुजारा की धीमी बैटिंग के चलते मेलबर्न टेस्ट हार सकता है भारत

इधर, उनके अपने देश ऑस्ट्रेलिया में यह मुद्दा एक बार फिर चर्चा में है. इसका कारण खुद स्मिथ और बैनक्रॉफ्ट के इंटरव्यू हैं जिन्हें बॉक्सिंग डे के दिन प्रसारित किया गया. बैनक्रॉफ्ट ने इंटरव्यू में कहा कि टीम के तत्कालीन उप कप्तान डेविड वार्नर ने उन्हें गेंद के साथ छेड़छाड़ करने को कहा था. वे असके लिए राजी हो गए ताकि खुद को टीम में वैल्यूड महसूस कर सकें.

अब बताया प्रीति जिंटा ने, किंग्स इलेवन ने अंजाने से वरुण चक्रवर्ती पर क्यों लगाई 8.40 करोड़ रुपए की बोली

वहीं, स्मिथ ने सीधे क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया. स्मिथ ने कहा कि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के तत्कालीन चीफ एग्जीक्यूटिव और हाई परफॉर्मेंस मैनेजर ने उन्हें कहा कि वे उन्हें खेलने के लिए नहीं, जीतने के लिए पैसा देते हैं. इससे टीम में हर हाल में जीत की संस्कृति विकसित हुई, जो बॉल टेम्परिंग का कारण बनी.