नई दिल्ली: बांग्लादेश ने रोमांचक मुकाबले में महिला एशिया कप 2018 तीन विकेट से जीत लिया. यह उसके लिए ऐतिहासिक जीत है, क्यों कि भारत के अलावा कोई भी टीम अभी तक यह टूर्नामेंट नहीं जीत पायी थी. भारत के खिलाफ कौल लामपुर में खेले गए मैच में आखिरी गेंद तक रोमांच बना रहा. बांग्लादेश की ओर से शानदार बल्लेबाजी करते हुए निगार सुल्ताना ने 4 चौकों की मदद से 27 रन बनाए. वहीं गेंदबाजी में रुमाना अहमद और खादिजा तुल खुब्रा ने दो-दो विकेट झटके. दूसरी ओर भारत की ओर से हरमनप्रीत कौर ने अर्धशतकीय पारी खेली और पूनम यादव ने 4 विकेट झटके. इस टूर्नामेंट के लिए हरमनप्रीत को ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ चुना गया.

टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 112 रन बनाए. इसके जवाब में उतरी बांग्लादेश की टीम ने 7 विकेट खोकर मैच जीत लिया. बांग्लादेश की ओर से शमीमा सुल्ताना और आयशा रहमान ने टीम को अच्छी शुरुआत दी. इस दौरान सुल्ताना 16 रन और रहमान 17 रन बनाकर आउट हुईं. इन दोनों खिलाड़ियों को पूनम यादव ने आउट किया. इसके बाद निगार सुल्ताना ने पारी को संभालते हुए 24 गेंदों में 27 रन की अहम पारी खेली. रुमाना अहमद ने भी 23 रन बनाए. इसके बाद संजिदा इस्लाम 5 रन और खातून 9 रन बनाकर आउट हुईं. यह मैच आखिरी गेंद तक चला.

कोहली ने दाढ़ी के इश्योरेंस का उजागर किया सच, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा VIDEO

बांग्लादेश की पारी के दौरान आखिरी ओवर हरमनप्रीत कौर ने किया. हरमनप्रीत ने पहली गेंद पर सिंगल दिया. दूसरी पर चौका, तीसरी गेंद पर सिंगल और फिर चौथी गेंद पर विकेट ले लिया. उन्होंने इस्लाम को कैच आउट करवाया. इस दौरान मैच काफी रोमांचक हो गया. इसके बाद पांचवीं गेंद पर फिर विकेट मिल गया. हालांकि आखिरी गेंद पर 2 रन चाहिए थे, जिसे बांग्लादेशी खिलाड़ियों ने आसानी से ले लिया.

इससे पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत बेहद खराब रही. ओपनर खिलाड़ी मिताली राज 11 रन और स्मृति मंधाना महज 7 रन बनाकर आउट हो गयीं. इसके बाद दीप्ति शर्मा भी महज 4 रन बनाकर पवेलियन लौटीं. अंजुम पाटिल 3 रन और वेदा कृष्णमूर्ती 11 रन बनाकर आउट हुईं.

सौरव गांगुली ने बतायी अपनी फेवरेट फुटबॉल टीम, कहा यह खिलाड़ी जितायेगा FIFA

शिखा पांडे 1 रन और तान्या भाटिया 3 रन बनाकर अपना विकेट खो बैठीं. झूलन गोस्वामी ने एक चौके की मदद से 10 रन बनाए. एकता बिष्ट एक रन बनाकर नाबाद रहीं. कप्तान हरमनप्रीत ने पूरी पारी को अंत तक संभाले रखा. उन्होंने 42 गेंदों का सामना करते हुए 7 चौकों की मदद से 56 रन बनाए. हालांकि पारी की आखिरी गेंद पर आउट हो गयीं.