भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने चाइनीज मोबाइल कंपनी वीवो के साथ इंडियन प्रीमियर लीग 2020 (IPL 2020) के लिए अपनी साझेदारी को स्थगित करने का फैसला किया है। भारत-चीन सीमा विवाद के बीच वीवो की स्पॉन्सरशिप को लेकर बोर्ड को काफी आलोचना का सामना कर पड़ रहा था।Also Read - शनिवार को भारत के दक्षिण अफ्रीका दौरे पर बड़ा फैसला लेगी BCCI; 9 दिसंबर को रवाना हो सकती है टीम

गुरुवार को आधिकारिक बयान के जरिए बोर्ड ने वीवो के साथ अपनी साझेदारी को खत्म किया। बोर्ड ने कहा कि ये करार 2020 के टूर्नामेंट के लिए खत्म कर दिया गया था। बता दें कि 13वें सीजन का आयोजन 19 सितंबर को संयुक्त अरब अमीरात में शुरू होने वाला है। Also Read - IND vs SA: Omicron वैरिएंट के बीच क्या फैसला लेगा BCCI, खुद क्रिकेट साउथ अफ्रीका को जानकारी नहीं

वीवो ने 2017 में दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट टूर्नामेंट के साथ $ 300 मिलियन डॉलर (2,199 करोड़ रूपए) के भुगतान पर पांच साल का कॉन्ट्रेक्ट साइन किया था। लेकिन 15 जून को सीमा पर हुई झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की मौत के बाद से चीनी कंपनियों के बहिष्कार का आह्वान हुआ है। जिसके बाद बोर्ड ने वीवो के साथ करार खत्म किया। Also Read - IND vs SA: Omicron ने बढ़ाई भारतीय खिलाड़ियों की चिंता, साउथ अफ्रीकी दौरे पर नहीं जाना चाहते कुछ क्रिकेटर

अब जबकि टूर्नामेंट शुरू होने में केवल एक महीने का समय बाकी है, तो बीसीसीआई को कोरोना वायरस के बीच 13वें सीजन के आयोजन की तैयारी करने के साथ नए प्रायोजक भी ढूंढने होंगे। हालांकि किंग्स इलेवन पंजाब के सह मालिक नेस वाडिया का कहना है कि बोर्ड को आईपीएल के लिए स्पॉन्सर ढूंढने में मुश्किल नहीं होगी।