नई दिल्ली : बीसीसीआई ने तीन राष्ट्रीय चयनकर्ताओं का पारिश्रमिक बढ़ाने के साथ अंपायरों, स्कोरर और वीडियो विश्लेषकों की फीस दोगुनी करने का फैसला किया. बीसीसीआई की सबा करीम की अध्यक्षता वाली क्रिकेट परिचालन विंग ने यह फैसला किया. सीओए को भी लगता है कि मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद एंड कंपनी को उनकी सेवाओं का फायदा मिलना चाहिए. Also Read - लंबे ब्रेक से मेरा शरीर अकड़कर जॉम्‍बी मोड में चला गया है: दिनेश कार्तिक

Also Read - एक बार फिर यूएई ने बीसीसीआई के सामने रखा IPL आयोजन का प्रस्ताव

दिलचस्प बात है कि बीसीसीआई कोषाध्यक्ष अनिरूद्ध चौधरी वेतन बढ़ाने के फैसले से अवगत नहीं थे. अभी चेयरमैन को सालाना 80 लाख रूपये जबकि अन्य चयनकर्ताओं को 60 लाख रूपये मिले रहे हैं. पारिश्रमिक बढ़ाने का फैसला इसलिये लिया गया क्योंकि बाहर किये गये चयनकर्ता गगन खोड़ा और जतिन परांजपे भी इतना ही वेतन हासिल कर रहे हैं जितना देवांग गांधी और सरनदीप सिंह. Also Read - गेंदबाजी कोच की सलाह- अपने राज्य के मैदानों पर अभ्यास शुरू करें भारतीय क्रिकेटर

वर्ल्ड इलेवन और वेस्टइंडीज के बीच होगा कड़ा मुकाबला, कार्तिक पर होगी सबकी नजर

बीसीसीआई के सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘‘चयनकर्ताओं की नियुक्ति आम सालाना बैठक में ही हो सकती है, जतिन और गगन सेवा नहीं देने के बावजूद नियमों के अनुसार इतनी ही सैलरी पा रहे हैं. देवांग और सरनदीप के साथ यह ठीक नहीं होगा क्योंकि वे देश से बाहर भी आते जाते रहते हैं.’’

उम्मीद है अब मुख्य चयनकर्ता को करीब एक करोड़ रूपये मिलेंगे जबकि दो अन्य को 75 से 80 लाख रूपये के करीब मिलेंगे. बीसीसीआई ने छह साल के अंतराल बाद घरेलू मैच रैफरियों, अंपायरों, स्कोरर और वीडियो विश्लेषकों की फीस भी दोगुनी करने का फैसला किया. फीस बढ़ाने की सिफारिश सबा करीम ने 12 अप्रैल को सीओए के साथ बैठक के दौरान की थी. हालांकि कोषाध्यक्ष चौधरी को इन वित्तीय फैसलों से दूर रखा गया.

करोड़ों में बिके और फ्लॉप हो गए IPL2018 में ये दिग्गज खिलाड़ी

बीसीसीआई अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा, ‘‘मुझे याद है कि अनिरूद्ध ने पिछले साल वित्तीय समिति की बैठक के दौरान इस बढ़ोतरी का सुझाव दिया था लेकिन मुझे नहीं लगता कि उन्हें इस बार उन्हें इस फैसले में शामिल किया गया.’’

अंपायरों को संशोधित फीस के अनुसार प्रथम श्रेणी मैच, 50 ओवरों के मैच या तीन दिवसीय मैच में 40,000 रूपये प्रतिदिन मिलेंगे जबकि पहले उन्हें 20,000 रूपये प्रतिदिन मिलते थे. टी 20 मैचों में इसे 10,000 रूपये से बढ़ाकर 20,000 रूपये प्रत्येक मैच कर दिया जायेगा.

धोनी ने फिर दिखाई दरियादिली, चेन्नई जाते समय में अपने अंदाज से जीता दिल

मैच रैफरियों को चार दिवसीय , तीन दिवसीय औरएक दिवसीय मैच के लिये 30,000 रूपये जबकि टी 20 मैचों के लिये 15,000 रूपये मिलेंगे. स्कोरर को अब मैच के दिन 10,000 रूपये जबकि टी 20 मैचों में 5,000 रूपये मिलेंगे.

वीडियो विश्लेषकों को टी 20 मैचों के लिये 7,500 रूपये जबकि अन्य मैचों के लिये 15,000 रूपये प्रतिदिन मिलेंगे. इस बीच तेलगांना क्रिकेट संघ ने भी सीओए से एसोसिएट सदस्यता की मांग की है क्योंकि हैदराबाद के पास मतदाता सदस्य के रूप में मुख्य सदस्यता हासिल है.