नई दिल्लीः पहली बार भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) और उससे जुड़े राज्य संघों के चुनावों में पैम्फ्लेट और पोस्टर्स के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है. हालांकि यह साफ तौर पर निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी प्रत्याशी धर्म, जाति के आधार पर वोट नहीं मांगेगा. जानकारी के मुताबिक, आचार संहिता यह भी कहती है कि प्रत्याशी वोट मांगने के लिए निर्धारित गिए आधिकारिक ‘कैम्पेन पीरियड’ में प्रचार कर सकेंगे जो वोटिंग वाले दिन लागू होगा.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कप्तान कोहली के साथ युवा शुरू करेंगे टी20 विश्व कप की तैयारियां

उसमें लिखा है, “एक अलग से कैम्पेन पीरियड को लागू किया गया है जिसमें प्रत्याशी बीसीसीआई के सदस्यों से वोटिंग वाले दिन अपने पक्ष में वोट डालने की अपील कर सकते हैं. अगर पैम्फ्लेट, पोस्टर बांटे जाते हैं तो उनमें धर्म, जात के आधार पर वोट मांगने की अपील नहीं होनी चाहिए. वोटिंग स्थल पर हालांकि पैम्फ्लेट, पोस्टर, बैनर्स को मंजूरी नहीं होगी.” उन्होंने कहा, “प्रोक्सी वोटिंग को मान्यता नहीं है साथ ही प्रत्याशी सदस्यों को वोटिंग स्थल तक लाने के लिए वाहन का उपयोग भी नहीं कर सकेंगे.

लंदन का मेयर बनना चाहता है भारतीय मूल का यह स्पिनर, मैदान में वापसी के भी दिए संकेत

कैम्पेन पीरियड के दौरान प्रत्याशी वोट हासिल करने के लिए गलत तरीके जैसे कि रिश्वत, गिफ्ट या शराब का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे.” बीसीसीआई का कॉलेज चुनावों की तरह अपने चुनावों का आयोजन करना बोर्ड के कुछ पूर्व और मौजूदा अधिकारियों को पसंद नहीं आ रहा है. एक अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा कि, “इस सिस्टम के साथ यही समस्या है.

स्टीव स्मिथ ने दर्ज किया एक और रिकॉर्ड, टेस्ट क्रिकेट इतिहास के बने पहले बल्लेबाज

यह खेल संघ के चुनावों को कॉलेज के चुनावों में तब्दील कर रहा है. उन्हें बोर्ड से जुड़ी प्रतिष्ठा का ख्याल रखना चाहिए.” एक और अधिकारी ने कहा, “हम बिना पैम्फेलट बांटे और बिना लोगों के घर जाकर आईसीसी के स्तर के अधिकारी रहे हैं. कोई भी क्लास के प्रतिनिधि के लिए चुनाव नहीं लड़ रहा है.”