भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का कहना है कि 6 जूनियर क्रिकेटर्स को पुरस्कार राशि जारी करने में उसे परेशानी का सामना करना पड़ा है क्योंकि इनका अकाउंट ‘जनधन’ योजना के तहत खुला है. बोर्ड के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर बताया ऐसे खातों में अधिकतम 50,000 रुपये की राशि जमा की जा सकती है. Also Read - फ्लॉप XI में मनोज तिवारी का नाम देख भड़की पत्नी सुष्मिता

सभी आयु वर्ग के क्रिकेटरों को डेढ़ लाख रुपये दिए जाने थे Also Read - वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकी टीम इंडिया की ये ऑलराउंडर इस पुरस्कार के लिए हुई नॉमिनेट

बीसीसीआई शीर्ष समिति के इस अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘बीसीसीआई वार्षिक समारोह में पुरस्कार पाने वाले सभी आयु वर्ग के क्रिकेटरों को डेढ़ लाख रुपये दिए जाने थे. सीनियर खिलाड़ियों को पुरस्कार राशि का हस्तांतरण 11 जनवरी को समारोह के तुरंत बाद कर दिया गया था. लेकिन पांच जूनियर क्रिकेटरों के खाते में डेढ लाख रुपये की लेनदेन को अस्वीकार कर दिया.’ Also Read - भारतीय क्रिकेटरों के लिए अभ्यास कैंप आयोजित करने पर काम कर रही है BCCI लेकिन समय सीमा अनिश्चित

उन्होंने कहा, ‘इन खातों में कई बार रकम डालने की कोशिश विफल होने के बाद हमने अपने बैंक से इस बारे में पूछा तो पता चला कि इन क्रिकेटरों का खाता जनधन योजना के तहत खुला है. ऐसे में एक बार में 50,000 हजार रुपये ही जमा हो सकते है.’

इसके बाद बीसीसीआई ने अपने बैंक (बैंक ऑफ महाराष्ट्र) से सभी खिलाड़ियों के खाते वाले बैंकों से संपर्क करने को कहा ताकी मुद्दे को सुलझाया जा सके. इस मुद्दे को ‘जन धन’ खातों को बचत खातों में परिवर्तित करके हल किया जा सकता है, जिसमें नकद जमा पर कोई ऊपरी सीमा नहीं है.

जूनियर क्रिकेटरों के लिए मैच फीस काफी कम है

अधिकारी ने कहा, ‘दरअसल, जूनियर क्रिकेटरों के लिए मैच फीस काफी कम है. अंडर-16 खिलाड़ियों को प्रति मैच 10,000 रुपये (प्रति दिन 2500 रुपये) और अंडर-19 खिलाड़ियों को 40,000 रुपये (प्रति दिन 10,000 रुपये) मिलते हैं.

उन्होंने कहा, ‘इसलिए सामान्य समय में, जब मैच फीस इन खातों में स्थानांतरित की जाती है तो कोई समस्या नहीं आती. चूंकि इस बार राशि अधिक थी, इसलिए परेशानी हुई.’