भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का कहना है कि 6 जूनियर क्रिकेटर्स को पुरस्कार राशि जारी करने में उसे परेशानी का सामना करना पड़ा है क्योंकि इनका अकाउंट ‘जनधन’ योजना के तहत खुला है. बोर्ड के एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर बताया ऐसे खातों में अधिकतम 50,000 रुपये की राशि जमा की जा सकती है. Also Read - कोरोना से Veda Krishnamurthy की मां के बाद बहन की मौत, BCCI पर भड़कीं पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान

सभी आयु वर्ग के क्रिकेटरों को डेढ़ लाख रुपये दिए जाने थे Also Read - फिर से शुरु हुआ IPL 2021 तो जरूर हिस्सा लेंगे इंग्लिश गेंदबाज जोफ्रा आर्चर

बीसीसीआई शीर्ष समिति के इस अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘बीसीसीआई वार्षिक समारोह में पुरस्कार पाने वाले सभी आयु वर्ग के क्रिकेटरों को डेढ़ लाख रुपये दिए जाने थे. सीनियर खिलाड़ियों को पुरस्कार राशि का हस्तांतरण 11 जनवरी को समारोह के तुरंत बाद कर दिया गया था. लेकिन पांच जूनियर क्रिकेटरों के खाते में डेढ लाख रुपये की लेनदेन को अस्वीकार कर दिया.’ Also Read - ...जब Mithali Raj ने लगाए Ramesh Powar पर गंभीर आरोप, हेड कोच पद से हुई थी छुट्टी

उन्होंने कहा, ‘इन खातों में कई बार रकम डालने की कोशिश विफल होने के बाद हमने अपने बैंक से इस बारे में पूछा तो पता चला कि इन क्रिकेटरों का खाता जनधन योजना के तहत खुला है. ऐसे में एक बार में 50,000 हजार रुपये ही जमा हो सकते है.’

इसके बाद बीसीसीआई ने अपने बैंक (बैंक ऑफ महाराष्ट्र) से सभी खिलाड़ियों के खाते वाले बैंकों से संपर्क करने को कहा ताकी मुद्दे को सुलझाया जा सके. इस मुद्दे को ‘जन धन’ खातों को बचत खातों में परिवर्तित करके हल किया जा सकता है, जिसमें नकद जमा पर कोई ऊपरी सीमा नहीं है.

जूनियर क्रिकेटरों के लिए मैच फीस काफी कम है

अधिकारी ने कहा, ‘दरअसल, जूनियर क्रिकेटरों के लिए मैच फीस काफी कम है. अंडर-16 खिलाड़ियों को प्रति मैच 10,000 रुपये (प्रति दिन 2500 रुपये) और अंडर-19 खिलाड़ियों को 40,000 रुपये (प्रति दिन 10,000 रुपये) मिलते हैं.

उन्होंने कहा, ‘इसलिए सामान्य समय में, जब मैच फीस इन खातों में स्थानांतरित की जाती है तो कोई समस्या नहीं आती. चूंकि इस बार राशि अधिक थी, इसलिए परेशानी हुई.’