नई दिल्ली: पंजाब के लिए रणजी ट्रॉफी में खेलने वाले अभिषेक गुप्ता को डोपिंग उल्लंघन मामले में निलंबित किया गया है. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की ओर से गुरुवार को दी गई जानकारी में यह कहा गया है कि अभिषेक ने अनजाने में एक प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन कर लिया था, जो आमतौर पर खांसी की दवाई में पाया जाता है.

बीबीसीआई ने कहा, “रणजी ट्रॉफी में पंजाब की टीम का प्रतिनिधित्व करने वाले अभिषेक ने बोर्ड के डोपिंग रोधी कार्यक्रम के तहत 15 जनवरी, 2018 को नई दिल्ली में टी-20 प्रतियोगिता के दौरान मूत्र नमूना दिया था. उनके नमूने में ‘टब्र्यूटलाइन’ पदार्थ की मात्रा पाई गई है. यह पदार्थ विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) की प्रतिबंधित दवाओं की सूची में शामिल है.”

T-20 क्रिकेट में मिताली राज ने दी विराट कोहली को मात, बना डाला ये रिकॉर्ड

17 अप्रैल को अभिषेक पर बीसीसीआई के डोपिंग रोधी नियम अनुच्छेध 2.1 के तहत डोपिंग रोधी नियम उल्लंघन (एडीआरवी) कमिशन का आरोप लगाया गया और अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया. इस मामले में अभिषेक ने आरोप को स्वीकार किया है, लेकिन उनका कहना है कि यह उन्होंने अनजाने में किया था. उन्हें उनके चिकित्सक ने एक दवा के सेवन के लिए कहा था, जिसमें यह प्रतिबंधित पदार्थ शामिल था.

विराट कोहली को भारतीय क्रिकेट का प्रतिष्ठित पाली उमरीगर पुरस्कार

बीसीसीआई ने कहा, “अभिषेक की पुष्टि से सहमत होकर बोर्ड ने उन्हें आठ माह के लिए निलंबित किया है. यह निलंबन 15 जनवरी से शुरू हो रहा है और 14 सितम्बर को समाप्त होगा.” बता दें कि इससे पहले आईपीएल 6 में दिल्ली के खिलाड़ी प्रदीप सांगवान को डोपिंग टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया था. तब इस मसले पर बीसीसीआई ने कहा था कि सांगवान ने प्रतिबंधित दवाओं का सेवन किया है. इसके लिए दिल्ली व जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) को सूचित किया जा चुका है. सांगवान के ए नमूने में दवाओं के अंश मिले हैं.