कोविड-19 महामारी की रोकथाम के लिए देश में लॉकडाउन को 31 मई तक बढ़ा दिया गया है। गृह मंत्रालय ने कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन के चौथे चरण में रविवार को खेल परिसरों और स्टेडियम को खोलने की अनुमति दे दी. बावजूद इसके भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने रविवार देर रात जारी अपने बयान में कहा कि उसने कोविड-19 को रोकने के लिए जारी की गई गाइडलाइंस को गंभीरता से लिया है। बोर्ड ने कहा है कि वह अपने अनुबंधित खिलाड़ियों के लिए शिविर लगाए जाने का इंतजार करेगा। Also Read - कारों के बीच से निकलकर दो लोगों पर ऐसे झपटा तेंदुआ, रोंगटे खड़े कर देने वाला है VIDEO

स्थानीय स्तर पर स्किल आधारित ट्रेनिंग शुरू करने पर विचार  Also Read - Domestic Flights: घरेलू उड़ानों को सामान्य होने में लग सकता है 6 महीने का समय: हरदीप सिंह पुरी

बीसीसीआई ने बयान में कहा, ’31 मई तक हवाईयात्रा और लोगों के आने-जाने की पाबंदी को ध्यान में रखते हुए बीसीसीआई अपने अनुबंधित खिलाड़ियों के लिए स्किल आधारित कैंप लगाए जाने का इंतजार करेगी। बोर्ड यह साफ कर देना चाहता है कि खिलाड़ियों और सपोर्ट स्टाफ की सुरक्षा सबसे पहले है और हम जल्दबाजी में ऐसा कोई फैसला नहीं लेंगे जो भारत को कोरोनावायरस से जारी लड़ाई में मुश्किल में डाल दे।’ Also Read - लॉकडाउन में करिश्मा तन्ना को हो गया है प्यार, खुशी से हो रही हैं पागल

बयान में कहा गया है, ‘इसी बीच बीसीसीआई राज्य स्तर की गाइडलाइंस पर ध्यान देगी और राज्य क्रिकेट संघों के साथ मिलकर स्थानीय स्तर पर स्किल आधारित ट्रेनिंग शुरू करने पर विचार करेगी। बीसीसीआई अधिकारी टीम प्रबंधन से बातचीत करना जारी रखेंगे और हालात सुधरने तक पूरी टीम के लिए सही प्लान तैयार रखेंगे।’

भारत में अभी तक 95,000 से ज्यादा कोविड-19 मामले सामने आए हैं जिसमें 3000 से अधिक लोग जान गंवा चुके हैं.