भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को सबसे पावरफुल और दुनिया का अमीर बोर्ड माना जाता है. इसके बावजूद वह इंग्लैंड में टीम इंडिया के लिए अभ्यास मैच तक सुनिश्चित नहीं करवा सका. विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) के फाइनल मुकाबले में टीम इंडिया का बल्लेबाजी क्रम न्यूजीलैंड के गेंदबाजों के सामने ध्वस्त हो गया था और उसकी दूसरी पारी 170 रन पर ही सिमट गई थी. डब्ल्यूटीसी फाइनल को देखते हुए भारत को क्वारंटीन पीरियड में अभ्यास मैच खेलने का मौका नहीं मिला था.Also Read - एशिया कप 2022 के लिए भारतीय टीम का ऐलान; केएल राहुल, विराट कोहली की वापसी, जसप्रीत बुमराह बाहर

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि वह डब्ल्यूटीसी फाइनल और इंग्लैंड के साथ टेस्ट सीरीज के बीच में काउंटी टीम के खिलाफ मुकाबले खेलना चाहते हैं. हालांकि, इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने इसकी इजाजत नहीं दी. Also Read - टीम इंडिया को बड़ा झटका, एशिया कप 2022 से बाहर हुए चोटिल जसप्रीत बुमराह

काउंटी टीमों के खिलाफ मैच नहीं होने पर भारत को इंडिया ए के साथ खेलना था लेकिन कोरोना महामारी के कारण इंडिया ए का दौरा रद्द हो गया था. Also Read - भारतीय महिला हॉकी टीम ने न्यूजीलैंड को हराकर जीता ब्रॉन्ज, 16 साल बाद कॉमनवेल्थ गेम्स में हासिल किया मेडल| Watch Video

यह पूछे जाने पर कि क्या भारत काउंटी टीमों के खिलाफ अभ्यास मैच खेलेगा. इस पर कोहली ने कहा, “यह हमारे ऊपर निर्भर नहीं कर सकता है. हम प्रथम श्रेणी मुकाबले खेलना चाहते थे जो हमें नहीं मिले. मुझे नहीं पता कि इसके पीछे का क्या कारण है.”

भारतीय टीम इंट्रा स्क्वायड मैच अगले महीने से खेल सकती है. भारत के कुछ शीर्ष खिलाड़ी जैसे शिखर धवन, पृथ्वी शॉ, देवदत्त पडीकल और हार्दिक पांड्या सहित कुछ क्रिकेटर जुलाई में श्रीलंका के साथ होने वाली सीमित ओवरों की सीरीज के लिए व्यस्त हैं और वह इंग्लैंड नहीं जा सकते हैं.

ऐसे में टीम उन्हीं खिलाड़ियों के साथ तैयारी करेगी जो इंग्लैंड में मौजूद हैं. मौजूदा स्थिति में इंट्रा स्क्वायड मैच ही एकमात्र तरीका है. कोहली ने कहा, “मुझे लगता है कि पहले टेस्ट के लिए तैयार होने में हमारी तैयारियों का समय पर्याप्त है.”