पिछले साल खेले गए रणजी ट्रॉफी फाइनल में उप विजेता रहीं बंगाल टीम के पूर्व कप्तान मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) ने बीसीसीआई की ओर से आने वाली ईनाम राशि में देरी को लेकर बोर्ड पर सवाल उठाए हैं। Also Read - IPL स्पॉट फिक्सिंग मामले में आजीवन बैन झेल रहे अंकित चव्हाण ने BCCI और MCA से लगाई ये गुहार

सूत्रों की मानें तो भारतीय बल्लेबाज तिवारी ने गुरुवार को टीम के खिलाड़ियों के साथ हुई बैठक में इस बारे में जानकारी मांगी। इस बैठक में टीम के कोच अरुण लाल और बाकी के सपोर्ट स्टाफ भी थे। तिवारी ने टीम के क्रिकेट संचालन मैनेजर जॉयदीप मुखर्जी के सामने ये सवाल रखा। Also Read - PCB के वीजा आश्वासन मांगने पर BCCI ने कहा- आंतकी हमले ना होगी की गांरटी दें

बंगाल क्रिकेट संघ ने खिलाड़ियों को आश्वासन दिया था कि उन्हें अगले एक सप्ताह के अंदर उन्हें बीसीसीआई की तरफ से एक करोड़ की इनामी राशि मिल जाएगी। Also Read - मैदान पर उतरे पुजारा-उनादकट; सौराष्ट्र के खिलाड़ियों के साथ नेट अभ्यास किया

इस मामले में जब सीएबी के अध्यक्ष अभिषेक डालमिया से बात की गई तो उन्होंने आईएएनएस से कहा, “संघ इस मामले में काम कर रहा है और यह प्रक्रिया पूरी होने के कगार पर है। अधिकारी इसके लिए अतिरिक्त काम कर रहे हैं। कुछ जानकारी और आंतरिक ऑडिट भेजी जानी है।”

उन्होंने कहा, “उम्मीद की जा सकती है कि एक या दो दिन में यह जानकारी बीसीसीआई के पास भेज दी जाएगी।महामारी के चलते, खिलाड़ियों, सपोर्ट स्टाफ और मैच अधिकारियों के बाकी भुगतान हमारी प्राथमिकता है क्योंकि यही उनकी मुख्य आय है। मैं इसे लेकर आश्वस्त हूं कि इस मुद्दे को भी जल्दी से जल्दी सुलझा लिया जाएगा।”

वहीं साथ ही ये भी पता चला है कि इस सीजन की रणजी ट्रॉफी विजेता सौराष्ट्र को बुधवार को उसकी इनामी राशि दो करोड़ रुपये मिल चुकी है। सूत्र ने कहा, “सौराष्ट्र का भुगतान 17 जून को कर दिया गया है।”