भारतीय मुक्केबाजों ने एशियाई ओलंपिक क्वालीफायर के जरिए टोक्यो ओलंपिक के लिए 9 कोटा हासिल किए. भारत का ये अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. भारतीय बॉक्सर जॉर्डन में आयोजित टूर्नामेंट से अब स्वदेश लौट रहे हैं. ऐसे में जॉर्डन से लौट रही भारतीय मुक्केबाजी टीम को कोविड-19 के खतरे को देखते हुए घर पर ही पृथक रहने को कहा जाएगा, हालांकि टीम के सभी सदस्यों को स्वास्थ्य संबंधित जरूरी मंजूरी मिल गई है. Also Read - टोक्यो ओलंपिक टालने के फैसले का भारतीय खिलाड़ियों ने किया स्वागत, बोले ‘जिंदगी पहले है, हम इंतजार कर सकते हैं’

Coronavirus Effect: क्रिकेट फैंस पर भी कोरोना का डर, अब तक सिर्फ 50 प्रतिशत ही बिके टिकट Also Read - Coronavirus: 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम ने क्ववारंटाइन प्रोटोकॉल का किया उल्लंघन

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने यह जानकारी दी. गुरुवार को 13 मुक्केबाज और इतनी ही संख्या में कोचिंग स्टाफ स्वदेश लौटेंगे. जॉर्डन के अम्मान में बुधवार को समाप्त हुए क्वालीफायर में भारतीय मुक्केबाजों ने 9 ओलंपिक कोटे हासिल किए. Also Read - डोपिंग बैन हटने के बाद बॉक्सर सुमित सांगवान ने नेशनल कैंप में शामिल करने की लगाई गुहार

बीएफआई के कार्यकारी निदेशक आर के साचेती ने कहा, ‘उन्हें कुछ दिनों के लिए अपने घरों या होस्टल में अलग रहने को कहा जाएगा. हालांकि जॉर्डन ओलंपिक संघ से उन्हें जरूरी स्वास्थ्य संबंधित मंजूरी मिल गई है.’

मुक्केबाज 26 फरवरी तक इटली में ट्रेनिंग कर रहे थे जो कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में से एक है. वे 27 फरवरी को असिसी से अम्मान पहुंचे और उन्हें अनिवार्य स्क्रीनिंग के बाद ही भाग लेने की मंजूरी मिली. जॉर्डन में अभी तक एक ही पॉजीटिव मामला सामने आया है.

साचेती ने कहा, ‘उन्हें स्वास्थ्य संबंधित प्रमाण पत्र मिल गए हैं. साथ ही हमें सरकार द्वारा दिये गए दिशानिर्देशों का भी पालन करना होगा. उनके यहां पहुंचने के बाद स्क्रीनिंग की जाएगी और उन्हें कुछ दिन के लिए घर पर अलग रहने को कहा जाएगा. लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है, सब ठीक है.

IPL 2020 के आयोजन पर खेल मंत्रालय ने दी प्रतिक्रिया, सचिव बोले- अगर यह टूर्नामेंट हुआ तो…

उन्होंने कहा, ‘उन्हें मीडिया से बातचीत करने से भी बचने को कहा जाएगा. हम आगे के निर्देशों के लिये स्वास्थ्य मंत्रालय से संपर्क में हैं.’ भारतीय टीम के हाई परफॉर्मेंस निदेशक सांटियागो निएवा ने अम्मान से कहा था, ‘कोई भी खांस नहीं रहा है, छींक नहीं रहा है. सब ठीक है.’

सरकार ने बुधवार को कहा था कि कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित सात देश जैसे इटली (800 से ज्यादा मौत) में 15 फरवरी के बाद जाने वाले और 13 मार्च की रात तक आने वाले लोगों को 14 दिन के लिए पृथक रहना होगा. साचेती ने कहा, ‘लेकिन हमारी टीम ने 12 मार्च को यात्रा शुरू कर दी है. इसलिए देखते हैं.’

उन्होंने कहा, ‘साथ ही हमारे विदेशी कोच (निएवा और महिला टीम के हाई परफोरमेंस निदेशक रफाएल बर्गामास्को) कामकाजी वीजा पर काम कर रहे हैं जिसे सरकार ने अभी तक रद्द नहीं किया है. इसलिए इसमें कोई परेशानी नहीं है.’