इंग्लैंड दौरे (India tour of England) के लिए तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) का चयन नहीं किया गया है. उस वक्त इसके पीछे की वजह भले ही क्रिकेट के लंबे फॉर्मेंट में अपनी फिटनेस को अनिश्चितता बताई गई, लेकिन अब कुछ और ही कारण सामने आ रहा है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अब भुवनेश्वर की टेस्ट क्रिकेट में दिलचस्पी नहीं है. भुवी का पूरा फोकस लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट पर है. Also Read - आलोचनाओं के कारण ही मैं यहां तक पहुंचा हूं, परवाह नहीं: Ajinkya Rahane

एक सूत्र ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो चयनकर्ता भुवी में 10 ओवर की भूखा भी देख पा रहे रहे हैं. टेस्ट क्रिकेट तो भूल जाइए. यह वाकई टीम इंडिया की हार है. इससें किसी को संदेह नहीं. क्योंकि अगर किसी एक गेंदबाज को इंग्लैंड दौरे पर सेलेक्ट होता है, तो उसमें वह भूख बरकरार रहती है. अब जबकि ये साफ है कि भुवनेश्वर टेस्ट क्रिकेट नहीं खेलना चाहते हैं, तो सवाल उठता है कि अगर कोई तेज गेंदबाज चोटिल होता है तो वर्कलोड कैसे मैनेज होगा?. क्योंकि इशांत का रिकॉर्ड भी बहुत अच्छा नहीं है. ऐसे में जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी पर सारा भार आ जाएगा.” Also Read - WTC फाइनल: कॉमेंट्री पैनल का हिस्सा क्यों नहीं हैं Harsha Bhogle, ट्वीट कर बताई वजह

“जिन लोगों ने उन्हें करीब से देखा है, उनका मानना है कि पिछले कुछ सीजन से उनके गेंदबाजी अभ्यास में बड़ा बदलाव है. अब जिम में ज्यादा वजन नहीं उठाते हैं. लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट में वो कम गेंदबाजी करके खुश हैं और टेस्ट क्रिकेट में लंबे स्पैल उन्हें अब पसंद नहीं आ रहे हैं.” Also Read - ICC WTC 2021 Full Squad & Schedule: भारत-न्यूजीलैंड ने किया टीम का ऐलान, जानिए किन-किन खिलाड़ियों को मिला स्थान

भुवनेश्वर कुमार के प्रदर्शन पर एक नजर: भुवनेश्वर कुमार 21 टेस्ट में 63 शिकार कर चुके हैं. इस दौरान उन्होंने 4 बार 5 या उससे अधिक शिकार किए हैं. बात अगर 117 वनडे मैच की करें, तो उन्होंने 138 खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा है. इस फॉर्मेट में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 42/5 रहा। वहीं 48 अंतर्राष्ट्रीय टी20 मैचों में भुवी 45 विकेट झटक चुके हैं. अगर इनके आईपीएल प्रदर्शन पर नजर डालें, तो 126 मैचों में 139 विकेट इनके खाते में हैं.