भारत के स्टार ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) का मानना है कि टी20 विश्व कप उनके करियर की सबसे बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि ‘लाइफ कोच और भाई ’ महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की गैर मौजूदगी में एक ‘फिनिशर’ की भूमिका उन्हें निभानी होगी।Also Read - लगातार खराब प्रदर्शन करने वाली राजस्थान रॉयल्स, पंजाब किंग्स जैसी टीमों में वापस नहीं आना चाहते खिलाड़ी: विटोरी

‘ईएसपीएन क्रिकइन्फो की क्रिकेट मंथली’ को दिए गए इंटरव्यू में पाड्या ने अपने जीवन की कई चुनौतियों और धोनी के साथ असाधारण तालमेल पर बात की। Also Read - IPL 2022: पूर्व दिग्गज ने बताया मुंबई इंडियंस के हार्दिक पांड्या को ना रीटेन करने के पीछे का कारण

पिछले साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने वाले धोनी के बिना भारत का ये पहला टी20 विश्व कप है। भारत को पहले मैच में 24 अक्टूबर को पाकिस्तान से खेलना है। धोनी को टूर्नामेंट के लिए टीम का मेंटर बनाया गया है। Also Read - IPL 2022 मेगा ऑक्शन में युजवेंद्र चहल की जगह राहुल चाहर पर बोली लगाएगी RCB: आकाश चोपड़ा

पांड्या ने कहा, ‘‘ये करियर की सबसे बड़ी चुनौती है क्योंकि इस बार महेंद्र सिंह धोनी नहीं है। सब कुछ मेरे कंधों पर है। मैं इसी तरह से सोचता हूं क्योंकि इससे मेरे लिए चुनौती बढ़ जाती है। ये रोमांचक टूर्नामेंट होगा।’’

उन्होंने स्वीकार किया कि वो कभी परफेक्ट नहीं थे लेकिन उनके परिवार ने सुनिश्चित किया कि उनके पैर हमेशा जमीन पर रहें। पांड्या ने कहा, ‘‘मैं अपनी कमियां स्वीकार करता हूं। करियर के शुरूआती दो साल में काफी भटकाव था लेकिन हमारा परिवार एक दूसरे के काफी करीब है।

पांड्या ने कहा, “परिवार में एक चीज साफ है कि मैं गलत हूं तो गलत हूं। हर कोई अपनी राय देता है और अगर कोई भटकने लगता है तो उसके पैर जमीन पर रखने में परिवार मदद करता है।’’

उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें पता है कि सभी की नजरें उन पर होती है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं सुर्खियों में रहना नहीं चाहता लेकिन ऐसा हो जाता है। जब मैं मैदान पर जाता हूं तो सभी की नजरें मुझ पर होती है क्योंकि उन्हें पता है कि मैं फॉर्म में रहा तो अपने दम पर मैच जिता सकता हूं।’’