नई दिल्ली: क्रिकेट की दुनिया में ऐसे कई गेंदबाज हुए हैं जिन्होंने अपनी गेंदबाजी से बल्लेबाजों को परेशानी में डाला है मगर क्रिकेट के इतिहास में ऐसे भी कुछ गेंदबाज हुए हैं जिनका खौफ बल्लेबाजों के सर चढ़ कर बोलता था. क्रिकेट की दुनिया के उसी इतिहास पर एक ऐसा नाम दर्ज है जिसकी रफ्तार से बल्लेबाजों के पसीने छूट जाते थे. ऑस्ट्रेलिया का एक ऐसा गेंदबाज जिसे दुनिया के सबसे तेज गेंदबाजों में से एक माना जाता है. अपनी गेंदबाजी से पूरी दुनिया पर राज करने वाले इस खिलाड़ी को हम और आप ब्रेट ली के नाम से जानते हैं. आज ये दिग्गज गेंदबाज 43 साल के हो गए हैं.

कुछ नायाब रिकॉर्ड

ब्रेट ली का जन्म8 नवम्बर 1976 को न्यू साउथ वेल्स में हुआ था. बचपन से क्रिकेट के माहौल में रहने वाले ली ने भी क्रिकेट खेलना ही पसंद किया. उनके दोनों भाई घरेलू क्रिकेट में सक्रीय थे. अपने क्रिकेटिंग करियर में ली ने अपने नाम कई नायब रिकॉर्ड दर्ज किए हैं. उन सभी रिकार्ड्स में से कुछ ऐसे भी है जिसे विश्व रिकॉर्ड भी कहा गया, जैसे ली के नाम160 किमी प्रतिघंटा की गति से गेंद फेंककर बोल्ड करने का रिकॉर्ड दर्ज है. 16 साल की उम्र में अपना पहला फर्स्ट ग्रेड मैच खेलकर ली ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर दिया था. प्रथम श्रेणी मैच में कदम रखने के एक महीने बाद ही ली को ऑस्ट्रेलिया ‘ए’ टीम का कमान सौंप दिया गया था.

ब्रेट ली-फोटो:ट्विटर

एक नजर करियर पर

दिग्गज गेंदबाज ब्रेट ली ने ऑस्‍ट्रेलिया के लिए 76 टेस्‍ट, 221 वनडे और 25 टी-20 मैच खेले हैं. उन्होंने टेस्‍ट क्रिकेट में 30.81 के औसत से 310 विकेट लिए जबकि वनडे मैचों में 23.36 के औसत से 380 और टी-20 में 25.50 के औसत से 28 विकेट लिए. ली, अपने करियर में चोटों से बहुत परेशान रहें और अपने क्रिकेटिंग करियर का आधा हिस्सा उन्होंने इसी वजह से गुजार दिया. 2003 के वर्ल्ड कप में ली ने शानदार प्रदर्शन कर अपनी टीम को इस टूर्नामेंट का विजेता भी बना दिया.

ब्रेट ली-फोटो:इंस्टाग्राम

टीम इंडिया के खिलाफ मचा दी थी खलबली

ब्रेट ली ने यूं तो हर टीम के खिलाफ अपने प्रदर्शन से अपना खौफ कायम किया मगर भारतीय क्रिकेट टीम के साथ ली का एक अलग ही मैच चालू था. ली ने अपना पहला टेस्ट मैच भारत के खिलाफ खेला और उसी मैच के पहली ही पारी में 5 विकेट झटक कर उन्होंने भारतीय खेमे में खलबली मचा दी. ये मैदानी युद्ध यहीं नहीं थमा, इसके बाद भी ली ने टीम इंडिया को अपनी गेंदबाजी से बहुत परेशान किया.

इन सम्मानों से भी नवाजे गए 

साल 2000 में ब्रेट ली को ‘ब्रैडमैन यंग क्रिकेटर ऑफ दी ईयर’ की खिताब से नवाजा गया. इसी दौरान साल 1999 और 2000 के प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें ‘विस्डनयंग क्रिकेटर ऑफ दी ईयर’ से भी सम्मानित किया गया. यही नहीं, ब्रेट ली के दामन में आईसीसी के भी कई बड़े पुरुस्कार है जिसपर पूरी दुनिया को गर्व है.

संन्यास

ब्रेट ली ने जनवरी 2015 में खेल के सभी रूपों से अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा की और फिर उन्होंने अपना किस्मत फिल्मों में आजमाया. ली, को हम सब कई बार कमेंट्री करते हुए भी देख लेते हैं.