Ricky Ponting XI, Shane Warne XI. ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग के पीड़ितों की मदद के मद्देनजर फंड जुटाने के लिए 8 फरवरी 2020 को एक चैरिटी मैच खेला जाएगा. स्टार खिलाड़ियों से सुसज्जित दोनों टीमों में दिग्गज रिकी पोंटिंग, शेन वॉर्न, जस्टिन लैंगर, एडम गिलक्रिस्ट और ब्रेट ली शामिल हैं. Also Read - ...तो अब इस टीम के लिए बल्ला थामेंगे Yusuf Pathan और Vinay Kumar, Jayasurya भी तैयार

गंभीर बोले- केएल राहुल ऐसी संपदा है जिसे बड़ी भूमिका के लिए विकसित किया जा सकता है Also Read - India vs England: जानिए नरेंद्र मोदी स्टेडियम से जुड़े कुछ दिलचस्प आंकड़े

एक टीम की कप्तानी पोंटिंग करेंगे जबकि दूसरी टीम की कमान वॉर्न के हाथों में होगी. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) के मुताबिक यह ऑल-स्टार टी20 मैच बिग बैश लीग (बीबीएल) के फाइनल से पहले खेला जाएगा. Also Read - डिप्रेशन पर अपना अनुभव साझा करने के लिए Sachin Tendulkar ने की Virat Kohli की तारीफ

तेंदुलकर और वॉल्श पोंटिंग इलेवन और वॉर्न इलेवन टीम के कोच होंगे 

खबर ये है कि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और वेस्टइंडीज के धुरंधर गेंदबाज कर्टनी वॉल्श पोंटिंग इलेवन और वॉर्न इलेवन के कोच होंगे. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के अनुसार ‘बुशफायर क्रिकेट बैश’ आठ फरवरी को खेला जाएगा.

‘सचिन और कर्टनी वॉल्श का हम बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं’

क्रिकेट के सामाजिक सरोकार से जुड़े अहम दिन ‘द बिग अपील’ पर यह मैच खेला जा रहा है. तेंदुलकर और वॉल्श इस मैच में रिकी पोंटिंग, शेन वॉर्न, जस्टिन लैंगर, एडम गिलक्रिस्ट, ब्रेट ली, शेन वॉटसन, माइकल क्लार्क, एलेक्स ब्लैकवेल जैसे धुरंधरों की टीम के कोच होंगे.

बुमराह को बेबी बॉलर कहने वाले अब्‍दुल रज्‍जाक का एक और विवादित बयान, ‘PSL के सामने IPL…’

स्टीव वॉ और मेल जोंस भी टीमों से जुड़ेंगे. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के सीईओ केविन रॉबटर्स ने कहा, ‘हम सचिन और वॉल्श का ऑस्ट्रेलिया में स्वागत करके सम्मानित महसूस कर रहे हैं. दोनेां बेहद सफल खिलाड़ी रहे हैं और हमें उनका बेताबी से इंतजार है.’

पीड़ितों की मदद के लिए वॉर्न अपनी ‘बैगी ग्रीन’ कैप नीलाम कर चुके हैं 

इस मैच से होने वाली कमाई ऑस्ट्रेलियाई रेडक्रॉस को जाएगी. ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग से 29 लोग मारे गए और 2000 से अधिक घर तहस नहस हो गए थे. गौरतलब है कि हाल में वॉर्न ने अपनी ‘बैगी ग्रीन कैप’ की नीलामी से मिली 10 लाख ऑस्ट्रेलियाई डॉलर से ज्यादा की राशि राहत कोष में दी थी.