मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन भारतीय महिला शटलर पीवी सिंधू का निराशाजनक प्रदर्शन साल के अंत में होने वाले बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर फाइनल्स में भी जारी है. सिंधू लगातार दो मुकाबला हारकर इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट से बाहर हो गई हैं.

पहले वनडे के लिए टीम इंडिया चेन्नई पहुंची, जडेजा, कुलदीप संग कोहली ने शेयर की फोटो

गुरुवार को खेले गए महिला एकल वर्ग मुकाबले में सिंधू को चीन की येन युफेई ने पराजित किया. सिंधू ने शुरुआत अच्छी की और पहला गेम भी जीता लेकिन इसके बाद वह लय बरकरार रखने में नाकाम रहीं.

युफेई के खिलाफ सिंधू को 22-20, 16-21, 12-21 से हार का सामना करना पड़ा. सीजन के इस आखिरी टूर्नामेंट में यह उनकी लगातार दूसरी हार है.

पहले मुकाबले में यामागुची ने हराया 

इससे पहले बुधवार को पहले मैच में जापान की अकीनी यामागुची के खिलाफ भी सिंधू ने एक गेम से बढ़त पर थी लेकिन वह उसका फायदा नहीं उठा पाई थीं. गुरुवार को फिर से उसकी पुनरावृत्ति देखने को मिली और एक घंटे 12 मिनट तक चले मैच में उन्हें हार झेलनी पड़ी. इससे सिंधू नॉकआउट की दौड़ से बाहर हो गई हैं.

यामागुची की बिंग जियाओ के खिलाफ जीत से पिछले साल की चैंपियन सिंधू की टूर्नामेंट में रही सही उम्मीद भी समाप्त हो गई. यामागुची और चेन युफेई ने अभी तक अपने दोनों मैच जीते हैं जिससे वे ग्रुप ए से सेमीफाइनल में पहुंचने में सफल रहीं.

‘भारतीय क्रिकेट टीम के ज्लाटन इब्राहिमोविच हैं इशांत शर्मा, धोनी नंबर एक फुटबॉलर’

सिंधू पहले गेम में 17-20 से पीछे चल रही थी लेकिन उन्होंने शानदार वापसी करके लगातार पांच अंक बनाकर यह गेम अपने नाम किया. चीनी खिलाड़ी ने हालांकि दूसरे गेम में शुरू से बढ़त बनाए रखी और मैच बराबरी पर ला दिया.

ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप सहित छह फाइनल में जीत दर्ज करने वाली चेन युफेई ने निर्णायक गेम में भी अपनी लय जारी रखी और यह गेम और मैच अपनी झोली में डाला.

औपचारिकता वाले मैच में बिंग जियाओ से भिड़ेंगी सिंधू 

सिंधू शुक्रवार को बिंग जियाओ से भिड़ेंगी लेकिन दोनों खिलाड़ियों के लिए यह मैच अब औपचारिकता मात्र रह गया है. वर्ल्ड चैंपियन बनने के बाद सिंधू का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है. वह अधिकतर टूर्नामेंट के शुरुआती दौर में ही बाहर हुई हैं. ऐसे में कहा जा सकता है सिंधू के लिए ये साल उतार-चढ़ाव वाला रहा.