अखिल भारतीय व्यापारी संघ (CAIT) ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) और विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S. Jayshankar) से अनुरोध किया है कि वो इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 13वें सीजन को दुबई में आयोजित कराने की अनुमति न दें। Also Read - IPL 2020 Delhi Capitals (DC) vs Kings XI Punjab (KXIP) : 16 रन बनाते ही डेविड वॉर्नर के एलीट क्लब में शामिल हो जाएंगे क्रिस गेल

बीसीसीआई ने रविवार को हुई अपनी आईपीएल गवर्निग काउंसिल की बैठक में फैसला किया है कि लीग की टाइटल स्पॉन्सर वीवो ही रहेगी। भारत और चीन के बीच इस समय विवाद चल रहा है लेकिन यह फैसला कानूनी टीम से सलाह के बाद और प्रायोजक करार को ध्यान में रखकर लिया गया है। Also Read - IPL 2020: 13वें सीजन के पहले मैच में ही वजन को लेकर ट्रोल हुए खिलाड़ी

सीएआईटी ने कहा, “हमने शाह और जयशंकर को एक पत्र भेजा है, जिसमें दुबई में आईपीएल को आयोजित करने के लिए बीसीसीआई को मंजूरी नहीं देने की मांग की गई है। यह सरकार की नीति का विरोधाभासी होगा।” Also Read - IPL 2020: पंजाब के खिलाफ मैच से पहले दिल्ली को बड़ा झटका; चोटिल हुए इशांत शर्मा

पत्र में, सीएआईटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी. भरतिया और महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि ऐसे में जबकि भारतीय सीमाओं पर चीनी आक्रमण ने भारत में चीन विरोधी भावनाओं को जन्म दिया, तो बीसीसीआई का निर्णय सरकार के फैसलों के विपरीत है।

कोविड-19 महामारी के कारण ओलंपिक और विंबलडन जैसे टूर्नामेंटों को रद्द करने का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि बीसीसीआई के फैसले की कड़ी निंदा की जानी चाहिए। बीसीसीआई का यह कदम पैसों के प्रति उसकी लालच को दर्शाता है।