नई दिल्ली. क्रिकेट में किसी बल्लेबाज की तुलना अगर सर डॉन ब्रैडमैन से होने लगे तो वो उसके लिए बड़ी बात होती है. कल तक विराट कोहली भी मॉडर्न क्रिकेट के ब्रैडमैन थे. लेकिन अब अगर उन्हें ब्रैडमैन न कहकर ब्रेकमैन कहें तो शायद उनकी क्रिकेट पर्सनालिटी को ज्यादा सूट करेगा. हमारे ऐसा कहने के पीछे वजह है हर मैच, हर सीरीज के साथ उनका नए-नए रिकॉर्ड गढ़ना.

विराट कोहली की ‘गलती’ से टाई हुआ भारत-वेस्टइंडीज दूसरा वनडे मैच

‘ब्रैडमैन’ नहीं ‘ब्रेकमैन’

वाइजैग में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले दूसरे वनडे में विराट कोहली सबसे तेज 10000 वनडे रन बनाने वाले बल्लेबाज बने. रनों के इस मुकाम तक विराट कोहली उतनी ही तेजी से पहुंचे जितना तेज उसेन बोल्ट 100 मी. की रेस में दौड़ते हैं. वनडे क्रिकेट में विराट कोहली ने अपने 10000 रन पूरे करने के लिए सबसे कम 205 इनिंग, सबसे कम 213 मैच, सबसे कम 10813 गेंद और डेब्यू के बाद से सबसे कम 10 साल और 67 दिन का वक्त लिया. विराट ने जहां इनिंग के मामले में सचिन के 259 इनिंग का रिकॉर्ड तोड़ा तो वहीं सबसे कम समय के मामले में द्रविड़ के 10 साल और 317 दिन का पिछला रिकॉर्ड तोड़ा. इसके अलावा सबसे कम गेंद खेलकर 10000 रन तक पहुंचने में उन्होंने श्रीलंका के सनथ जयसूर्या का रिकॉर्ड ढेर किया.

10000 रन, सबसे ज्यादा औसत

वनडे में 10000 रन बनाने वाले विराट दुनिया के 13वें और भारत के 5वें बल्लेबाज हैं. इन सारे बल्लेबाजों में इस मुकाम तक पहुंचने में उनका औसत और उनके बनाए शतक भी सबसे ज्यादा रहे. विराट ने अपने 10000 रन 59.17 की रिकॉर्ड औसत से पूरे किए. इस मामले में उन्होंने इंटरनेशनल वनडे में धोनी के 51.30 के औसत का रिकॉर्ड तोड़ा.

‘प्री-प्लान था 10000 रन बनाना’, वाइजैैग वनडे के बाद विराट कोहली का खुलासा

बतौर कप्तान बनाए नए रिकॉर्ड

पिछले 5 सालों में कोहली से ज्यादा 5115 रन किसी बल्लेबाज ने नहीं बनाए. इंटरनेशनल क्रिकेट में विराट 8000 रन पूरे करने वाले दुनिया के 9वें बल्लेबाज हैं लेकिन इस मुकाम तक सबसे तेज पहुंचने वाले कप्तान हैं. बतौर कप्तान विराट एक कैलेंडर ईयर में वनडे और टेस्ट दोनों में 1000 रन का आंकड़ा पार करने वाले 5वें बल्लेबाज हैं लेकिन लगातार दो बार ऐसा करने वाले वो एकमात्र बल्लेबाज हैं. साफ है चाहे बतौर बल्लेबाज हो या कप्तान, विराट जिस तरह से पुराने रिकॉर्डों को ढेर कर रहे हैं उन्हेें आज के दौर के ब्रैडमैन की जगह ब्रेकमैन ही कहा जाए तो बेहतर रहेगा.