नई दिल्ली : बीते साल बॉल टेम्पिरंग विवाद में फंसे ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज कैमरून बैनक्रॉफ्ट ने कहा है कि वह अब अपने अतीत को पीछे छोड़ते हुए एक नई शुरुआत करने को तैयार हैं. बैनक्रॉफ्ट एक नई सोच के साथ काउंटी चैम्पियनशिप में डरहम का नेतृत्व करेंगे. उन्होंने हालांकि इस बात को कबूल किया कि हो सकता है कि बाकी लोग उन्हें जल्दी माफ न करें. बैनक्रॉफ्ट पर बीते साल मार्च में केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में गेंद से छेड़छाड़ के कारण क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने नौ महीने का प्रतिबंध लगा दिया था. पिछले महीने ही इंग्लिश काउंटी ने डरहम ने उन्हें अपना कप्तान नियुक्त किया है.

एक वेबसाइट ने बैनक्रॉफ्ट के हवाले से लिखा है, “बेशक मेरे पास प्रथम श्रेणी स्तर पर कप्तानी करने का ज्यादा अनुभव नहीं है, लेकिन मुझे लगता है कि हर कप्तान कभी न कभी अपने करियर में जीरो से शुरुआत करता है. मैं इस समय यहीं हूं.”

राजस्थान की प्लेइंग इलेवन में इस खिलाड़ी की हो सकती है वापसी, चेन्नई में नहीं होगा बदलाव

बैनक्रॉफ्ट को सौ फीसदी उम्मीद है कि वह ऑस्ट्रेलियाई टीम में वापसी करेंगे. उन्होंने कहा कि प्रतिबंध के दौरान जब वह क्रिकेट से दूर थे तब उन्हें अपने आप को समझने का मौका मिला. बैनक्रॉफ्ट ने कहा, “ऐसे भी पल थे जब मैं बहुत मायूस महसूस कर रहा था. आप एक दुखद फेज से गुजर रहे होते हैं और इस दौरान आपको अपने आप से बेहद ईमानदार होना होता है.”

वर्ल्ड कप से पहले टीम इंडिया के खिलाड़ी मुश्किल में, कुलदीप ने बताई परेशानी की वजह

उन्होंने कहा, “मैं जितना क्रिकेट से दूर रहा उतना मुझे अपने आप को जानने का मौका मिला. यह शायद मेरे साथ हुई सबसे अच्छी चीज थी. मैंने काफी कुछ अपने आप से सीखा. मैं समझता हूं कि मैं जितना क्रिकेट से दूर रहा वो ऐसी चीज थी जहां मुझे काफी मजा आया.” उन्होंने कहा, “दक्षिण अफ्रीका में जो हुआ उसे एक सकारात्मक चीज में तब्दील करना ऐसी चीज है जिस पर मुझे गर्व है. इसने मुझे एक इंसान के तौर पर बेहतर बनने में मदद की.”