लंबे समय से पाकिस्‍तान में अंतरराष्‍टीय क्रिकेट की वापसी की बाट जोह रहे पीसीबी को रविवार को बड़ा झटका लगा. बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) के अध्‍यक्ष नजमुल हसन ने साफ कर दिया है कि बीसीबी पाकिस्तान का दौरा करने के लिए अपने खिलाड़ियों पर दबाव नहीं डालेगा.

श्रीलंका की टीम ने पहले पाकिस्‍तान का दौरा कर सीमित ओवरों का क्रिकेट खेला. जिसके बाद दोनों टीमों के बीच पाकिस्‍तान की सरजमीं पर ही अब दो मैचों की टेस्‍ट सीरीज खेली जा रही है. पीसीबी को आस है कि श्रीलंका के बाद अब बांग्‍लादेश की टीम भी पाकिस्‍तान जाकर क्रिकेट खेलने को तैयार हो जाएगी.

पढ़ें:- चेन्नई वनडे: वेस्टइंडीज ने टॉस जीता, पहले गेंदबाजी का फैसला

बीसीबी अध्‍यक्ष ने कहा, “अगर पाकिस्‍तान के लिए प्रस्तावित सीरीज की सुरक्षा क्लीयरेंस मिल भी जाती है तो भी खिलाड़ियों पर पाकिस्तान जाने को लेकर दबाव डालना उचित नहीं होगा.”

पीसीबी ने बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड को जनवरी-फरवरी में पाकिस्‍तान आकर दो टेस्ट और दो टी-20 मुकाबले खेलने का प्रस्‍ताव भेजा है.
बीसीबी इस सीरीज के लिए सुरक्षा क्लीयरेंस मिलने के बाद पाकिस्‍तान में खेलने को तैयार भी है. हसन मानते हैं कि इन सब तमाम बातों के बावजूद खिलाड़ियों पर पाकिस्तान जाने को लेकर दबाव नहीं बनाया जा सकता है और इसके लिए खिलाड़ियों की रजामंदी सबसे जरूरी है.

पढ़ें:- ड्वेन ब्रावो ने की भविष्यवाणी- टी20 विश्व कप में खेलेंगे महेंद्र सिंह धोनी

नजमुल हसन ने कहा, “हम अपने खिलाड़ियों को पाकिस्तान जाने के लिए बाध्य नहीं कर सकते. अगर कोई खिलाड़ी वहां नहीं जाना चाहता तो फिर वह नहीं जाएगा. हम किसी पर दबाव नहीं बनाएंगे. और फिर यह रिप्लेसमेंट टीम को लेकर चर्चा करने का समय नहीं है. हम हालात के मुताबिक काम करेंगे.”

बीसीबी ने इससे पहले बांग्लादेश की महिला राष्ट्रीय टीम और बांग्लादेश की U-16 टीमों को पाकिस्तान दौरे पर भेजा था.