ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली जा रही वनडे सीरीज के पहले मैच में लगातार पांचवां अर्धशतक जड़ भारतीय कप्तान मिताली राज (Mithali Raj) ने अपने करियर में कुल 20,000 रन पूरे कर लिए हैं। ये दूसरा मौका जब 38 साल की इस खिलाड़ी ने वनडे में लगातार पांच अर्धशतरीय पारियां खेली हों, वो साल 2017 में ये कारनामा कर चुकी हैं।Also Read - बेन स्टोक्स की वापसी से इंग्लैंड टीम को होगा फायदा: पूर्व कप्तान नासिर हुसैन

मिताली के 59वें अर्धशतक की मदद से टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले मैच आठ विकेट पर 225 रन का स्कोर खड़ा किया। भारतीय कप्तान ने 107 गेंदो पर तीन चौकों की मदद से 61 रन की पारी खेली। Also Read - सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में महाराष्ट्र की कप्तानी करेंगे CSK के रुतुराज गायकवाड़

Also Read - भारतीय कप्तान विराट कोहली की खेल भावना से प्रभावित हुईं पाकिस्तान की पूर्व क्रिकेटर सना मीर

ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम को चुनौती देने के लिए 250 रन से अधिक का स्कोर बनाने के लक्ष्य के साथ मैदान पर उतरी भारतीय टीम ने टास गंवाने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए नियमित अंतराल में विकेट गंवाए।

चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरी मिताली ने 61 रन बनाए जबकि अलावा अपना पहला वनडे खेल रही यास्तिका भाटिया (51 गेंदों पर 35 रन) और ऋचा घोष (29 गेंदों पर नाबाद 32) ही अहम योगदान दिया।

अगर घोष और अनुभवी झूलन गोस्वामी (24 गेंदों पर 20) की आठवें विकेट के लिए बनाई 45 रन की साझेदारी की मदद से भारत 220 रन के स्कोर तक पहुंचा। बल्लेबाजी को मजबूत करने के लिए ही तानिया भाटिया की जगह घोष को टीम में लिया गया जो भूमिका उन्होंने अच्छी तरह निभाई।

शेफाली वर्मा (आठ) और स्मृति मंधाना (16) ने भारत को तेज शुरुआत तो दिलाई लेकिन वो ज्यादा देर तक नहीं टिक पाई। ऑस्ट्रेलिया की सबसे सफल गेंदबाज डार्सी ब्राउन (33 रन देकर चार विकेट) ने इन दोनों को छठे ओवर तक पवेलियन भेज दिया था।

मिताली और यास्तिका ने तीसरे विकेट के लिए 21 ओवर में 77 रन की साझेदारी की। इस बीच रन गति धीमी पड़ने से दबाव भी बढ़ा। तेज गेंदबाज ब्राउन ने यास्तिका को आउट करके यह साझेदारी तोड़ी और फिर नयी बल्लेबाज दीप्ति शर्मा (नौ) को भी पवेलियन भेजा।

पूजा वस्त्राकर (17) अच्छी शुरुआत का फायदा उठाने में नाकाम रही जबकि मिताली फिर से अर्धशतक को शतक नहीं बदल पायी। अंगूठे की चोट के कारण सीनियर बल्लेबाज हरमनप्रीत कौर इस मैच में नहीं खेली।

ऑस्ट्रेलिया की तरफ से ब्राउन के अलावा अपना पहला वनडे खेल रही हन्नाह डार्लिंगटन ने 29 रन देकर दो और सोफी मोलिनेक्स ने 39 रन देकर दो विकेट लिए।