Also Read - ICC Decade Awards: दशक के बेस्ट क्रिकेटर चुनेगा ICC, विराट कोहली और MS Dhoni का नाम शामिल

सेंचुरियन। हार से बौखलाए भारतीय कप्तान विराट कोहली आज अपना आपा खो बैठे और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज में पराजय झेलने के बाद संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों से उलझ गए. कोहली से जब मीडियाकर्मियों ने अपनी बेस्ट इलेवन उतारने और उनकी टीम के विदेशों में रिकॉर्ड के बारे में पूछा तो वह उलटे सवाल दागकर भिड़ने के मूड में आ गए. कोहली से जब पूछा गया कि क्या भारत सेंचुरियन की परिस्थितियों को देखते हुए अपनी सर्वश्रेष्ठ एकादश के साथ खेला तो उनका जवाब था, सर्वश्रेष्ठ एकादश क्या है? 

तब इतने आक्रामक नहीं थे विराट कोहली! देखिए उनका पहला इंटरव्यू

तब इतने आक्रामक नहीं थे विराट कोहली! देखिए उनका पहला इंटरव्यू

Also Read - India vs Australia- ...तो ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नहीं जाएंगे रोहित और इशांत शर्मा: रिपोर्ट

Also Read - विराट कोहली ने मोहम्मद सिराज को किया प्रेरित, बोले- ये हालात तुम्हें मजबूत बनाएंगे

कोहली ने पत्रकारों पर दागे सवाल

उन्होंने कहा कि अगर हम यह मैच जीत जाते तो क्या यह हमारी सर्वश्रेष्ठ एकादश होती? हम परिणाम के अनुसार अपनी एकादश का फैसला नहीं करते. आप मुझसे यह कह रहे हो आप सर्वश्रेष्ठ एकादश के साथ खेल सकते थे. तुम ही मुझे सर्वश्रेष्ठ एकादश के बारे में बताओ और हम उसको लेकर उतरेंगे. 

कोहली ने बल्लेबाजों के सिर पर फोड़ा सीरीज की हार का ठीकरा

कोहली ने बल्लेबाजों के सिर पर फोड़ा सीरीज की हार का ठीकरा

भारत ने पहले दो मैचों में अंजिक्य रहाणे के स्थान पर रोहित शर्मा को उतारा. इसके अलावा कुछ अन्य खिलाड़ियों का चयन भी चौंकाने वाला रहा. कोहली ने कहा कि मैं कह रहा हूं कि हार से निश्चित तौर पर हम आहत हैं लेकिन आप एक फैसला करते हो तो आपको उसका समर्थन करना होता है. हम यहां यह नहीं कह सकते कि तुम एक मैच में नाकाम रहे, तुम इस स्तर पर खेलने के लिये अच्छे नहीं हो. क्या हम भारत में नहीं हारे थे जब हम वहां सर्वश्रेष्ठ एकादश के साथ खेले थे?

उन्होंने कहा कि जिसे भी चुना जाए वह टीम की तरफ से भूमिका निभाने के लिए अच्छा होना चाहिए. इसलिए हम इतनी बड़ी टीम के साथ यहां आये हैं. वे इस स्तर पर खेलने के लिये अच्छे हैं लेकिन आपको सामूहिक प्रदर्शन करने की जरूरत होती है. आप यह नहीं कह सकते कि कौन सर्वश्रेष्ठ एकादश है. हम पहले भी ऐसी टीमों के साथ खेले हैं जो वास्तव में मजबूत दिखती थी लेकिन हमें हार झेलनी पड़ी थी. 

सेंचुरियन टेस्ट में भारत की शर्मनाक हार, 151 पर टीम ढेर, 135 रनों से जीता द. अफ्रीका

सेंचुरियन टेस्ट में भारत की शर्मनाक हार, 151 पर टीम ढेर, 135 रनों से जीता द. अफ्रीका

गिनाया हार-जीत का आंकड़ा

कोहली से इसके बाद उनकी कप्तानी में खेले गये हर टेस्ट मैच में अलग टीम उतारने के बारे में सवाल किया गया तथा यह भी पूछा गया कि क्या इतने अधिक बदलाव टीम की हार का कारण है. उन्होंने कहा कि हम 34 में से कितने टेस्ट मैच जीते हैं? हमने कितने मैच जीते हैं? हमने कितने मैच जीते हैं? 21 जीते हैं (असल में 20). दो (असल में पांच) हारे हैं. कितने ड्रा रहे? क्या यह मायने रखता है? हम जहां भी खेलते हैं वहां अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करते हैं. मैं यहां आपके सवालों का जवाब देने के लिये आया हूं आपसे बहस करने के लिये नहीं आया हूं.

भारत अभी नंबर एक टीम है लेकिन क्या हार के बाद भी कोहली मानते हैं कि वे अब भी सर्वश्रेष्ठ हैं? इस सवाल पर कोहली ने कहा कि हमें खुद भी यह विश्वास करना होगा कि हम सर्वश्रेष्ठ हैं। यहां तक कि जब हम यहां आये थे तब अगर आपको यह विश्वास नहीं होता कि आप यहां सीरीज जीत सकते हो तो फिर यहां आने का कोई मतलब नहीं था.  उन्होंने कहा कि हम यहां केवल भाग लेने के लिये नहीं आये हैं। और आपके सवाल का जवाब दूं तो दक्षिण अफ्रीका ने कितनी बार भारत में अच्छा प्रदर्शन किया है?