नई दिल्ली. वो बात तो आपने सुनी ही होगी. अनुभव को कोई तोड़ नहीं होता. CSK का यही अनुभव दिल्ली कैपिटल्स पर भारी पड़ गया और उसे IPL-12 में अपनी पहली हार से दो-चार होना पड़ा. धोनी की बुढ्ढों की फौज ने दिल्ली की यंग ब्रिगेड को उसी के गढ़ में 6 विकेट से हराया. ये इस सीजन में धोनी एंड कंपनी की लगातार दूसरी जीत है.

धोनी की टीम ‘बुढ्ढों की फौज’

धोनी की टीम को हम बुढ्ढों की फौज क्यों कह रहे हैं पहले जरा वो समझ लीजिए. दरअसल, दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मुकाबले में CSK के प्लेइंग XI में सिर्फ 2 ही खिलाड़ी ऐसे थे जिनकी उम्र 30 साल से कम की थी. वहीं दूसरी ओर दिल्ली के बेड़े में 7 खिलाड़ी 30 साल से कम उम्र के थे. यानि सिर्फ 3 खिलाड़ी ही 30+ थे. साफ है धोनी की टीम ज्यादा उम्रदराज और अनुभवी थी.


2 गेंद पहले जीता मैच

मुकाबले में मेजबान दिल्ली ने पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और शिखर धवन के शानदार अर्धशतक की बदौलत 20 ओवर में 6 विकेट खोकर 147 रन बनाए. जवाब में CSK ने इस लक्ष्य को 2 गेंद पहले 4 विकेट खोकर हासिल कर लिया. CSK की ओर से वॉटसन ने सबसे ज्यादा 44 रन बनाए. रैना ने 30 रन की पारी खेली और जाधव ने 27 रन बनाए. इसके अलावा धोनी 32 रन बनाकर नाबाद रहे.

कोटला पर CSK की 5वीं जीत

इस मुकाबले को जीतकर चेन्नई ने दिल्ली के खिलाफ कोटला पर अपनी 5वीं जीत की स्क्रिप्ट लिखी. वहीं अपने होम ग्राउंड पर CSK के खिलाफ ये उसकी तीसरी हार है.