नई दिल्ली : मौजूदा चैम्पियन चेन्नइयन एफसी इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन के अपने तीसरे मुकाबले में गुरुवार को अपने घर में नार्थईस्ट युनाइटेड एफसी का सामना करेगी. टूर्नामेंट शुरुआती दो मुकाबलों में हार के बावजूद के चेन्नइयन के मुख्य कोच जॉन ग्रेगोरी को भरोसा है कि नॉर्थईस्ट के खिलाफ उनकी टीम जीत दर्ज करने में कामयाब रहेगी. इस सीजन में टीम का अब तक का सफर ग्रेगोरी के लिए निराशाजनक रहा है. इससे पहले भी चेन्नइयन एफसी ने संघर्ष किया है लेकिन ग्रेगोरी ने हमेशा से अपने खिलाड़ियों पर भरोसा बनाए रखा है. Also Read - ISL 2018: केरला ने मुकाबले में की शानदार वापसी, जमशेदपुर के साथ खेला ड्रॉ

Also Read - ISL 2018: जमशेदपुर का केरला से होगा मुकाबला, जानें किस स्थिति में हैं दोनों टीमें

ग्रेगोरी ने मैच से पहले कहा, “नार्थईस्ट ने नए सीजन का शानदार आगाज किया है लेकिन यह टीम अब तक प्लेऑफ में नहीं पहुंच सकी है. इस टीम ने इस सीजन में एटीके को हराया और फिर गोवा के खिलाफ करीबी ड्रॉ खेला. यह टीम गोवा के खिलाफ जीत सकती थी. मुझे अपने खिलाड़ियों पर भरोसा बनाए रखना होगा. हमारे खिलाड़ियों में मैच जीतने की काबिलियत है.” Also Read - ISL 2018: गोवा के खिलाफ मैदान में उतरेगी पुणे सिटी, चुनौतीपूर्ण होगा मुकाबला

INDvsWI: वनडे सीरीज से पहले वेस्टइंडीज को झटका, टीम के दिग्गज खिलाड़ी ने खेलने से किया मना

चेन्नइयन एफसी जहां अपने पहले मैच में बेंगलुरु एफसी से 1-0 से हार गई थी वहीं एफसी गोवा के खिलाफ अपने घर में खेले गए दूसरे मैच में उसे 1-3 से हार मिली थी. दूसरी ओर, नार्थईस्ट टीम ने अपने डच कोच एल्को स्काटोरी की देखरेख में खुद को नए सिरे से खड़ा किया है और अपने साथ पीएसजी के पूर्व फॉरवर्ड बार्थोलउ ओग्वाचे को जोड़ा है जो हाईलैंर्डस नाम से मशहूर इस टीम की आक्रमणपंक्ति के लिए मजबूती बनकर उभरे हैं.

डच कोच ने कहा, “आईएसएल की किसी भी टीम के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं लेकिन चेन्नई के पास व्यक्तिगत तौर पर अच्छा खेलने वाले खिलाड़ी कई हैं. इस टीम की कुछ ही कमजोरियां हैं और उम्मीद है कि हम उन कमजोरियों का फायदा उठाने मे सफल होंगे.”

भारत का ऑस्ट्रेलिया दौरा स्मिथ-वॉर्नर की गैरमौजूदगी में भी होगा चुनौतीपूर्ण, भुवनेश्वर ने बतायी वजह

स्काटोरी ने अपनी टीम को एफसी गोवा के खिलाफ अटैकिंग फुटबाल के बीच लड़ते हुए देखा है. वह मैच 2-2 से ड्रॉ रहा था. इसके बाद इस टीम ने कोलकाता में एटीके को हराया. स्काटोरी को इस बात का अच्छी तरह आभास है कि चेन्नई की टीम का हर एक खिलाड़ी उनके लिए चुनौती बन सकता है. साथ ही वह चेन्नई के तापमान को लेकर भी सचेत हैं.

स्काटोरी ने कहा, “ब्रेक के बाद मैदान में वापसी करना हमेशा से मुश्किल रहा है. चेन्नई में आद्र्रता काफी कम रहती है और सुबह के समय अभ्यास करना भी मुश्किल हो रहा था. शाम को हालांकि हालात थोड़ा बेहतर होगा.”

चेन्नइयन एफसी के लिए स्ट्राइकर जेजे मिडफील्ड में अच्छा योगदान देने का प्रयास करेंगे. वह अब तक हालांकि कोई गोल नहीं कर सके हैं. धनपाल गणेश की गैरमौजूदगी में अनिरुद्ध थापा और जर्मनप्रीत सिंह को आगे आकर मिडफील्ड की जिम्मेदारी संभालनी होगी. इससे रफाएल अगस्टो जैसे अनुभवी खिलाड़ी को आगे जाकर अटैक में मदद करने की आजादी मिलेगी.

दूसरी ओर, हाईलैंर्डस किसी भी हाल में चेन्नई को सीजन की अपनी पहली जीत से रोकना चाहेंगे और साथ ही साथ इस सीजन में अपना अजेय क्रम बनाए रखना चाहेंगे.