अपने शांत स्वभाव और मजबूत डिफेंस तकनीक की वजह से चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) की तुलना हमेशा ही पूर्व दिग्गज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) से की जाती रही है। वहीं पुजारा भी मानते है कि उन्होंने पूर्व भारतीय कप्तान द्रविड़ से काफी कुछ सीखा है। पुजारा ने कहा कि वो क्रिकेट से ध्यान हटा कर निजी जिंदगी के लिए समय महत्व के बारे में बताने के लिए वो हमेशा द्रविड़ के आभारी रहेंगे। Also Read - नहीं होगा टी20 विश्व कप; इंग्लैंड दौरे की तैयारी में जुटी ऑस्ट्रेलिया टीम

पुजारा ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से कहा, ‘‘उन्होंने मुझे क्रिकेट से दूर रहने के महत्व को समझने में मदद की। मेरे पास एक ही विचार था, लेकिन जब मैंने उससे बात की तो उन्होंने मुझे इसके बारे में बहुत स्पष्टता के साथ बताया। मुझे ऐसी सलाह की जरूरत थी।’’ Also Read - ‘सौरव गांगुली ने टीम इंडिया को जीत की मानसिकता दी, धोनी के बाद विराट ने इसे नई ऊंचाइयों पर पहुंचा’

द्रविड़ ने 164 टेस्ट में 13288 रन और 344 वनडे में 10889 रन बनाए। उन्होंने 79 वनडे मैचों में भारत की कप्तानी भी की, जिनमें से 42 में टीम को सफलता मिली। उनके नाम रनों का पीछा करते हुए लगातार 14 जीत दर्ज करने का विश्व रिकॉर्ड भी है। Also Read - आज के दिन रोहित शर्मा बने थे विश्व कप में पांच शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज

पुजारा ने कहा, ‘‘मैंने काउंटी क्रिकेट में भी देखा कि कैसे वे व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन को अलग रखते हैं। मैं उस सलाह को बहुत महत्व देता हूं। बहुत से लोग मानते हैं मैं अपने खेल पर जरूरत से ज्यादा ध्यान देता हूं । हां, मैं ऐसा हूं, लेकिन मुझे यह भी पता है कि कब पेशेवर जीवन से दूरी बनानी है। क्रिकेट से परे भी जीवन है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरी पसंद-नापसंद बदलते रहती है लेकिन द्रविड मेरे लिए काफी मायने रखते हैं। मेरे लिए वह हमेशा प्रेरणा के स्रोत रहे है और रहेंगे।’’