नई दिल्ली. भारत ने एडिलेड टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया को रौंदा तो नायक बने चेतेश्वर पुजारा. अब मेलबर्न में जीत की उम्मीद जगी है तो उसकी वजह भी हैं पुजारा. चेतेश्वर पुजारा ने मेलबर्न टेस्ट की पहली पारी में 319 गेंद का सामना करते हुए 106 रन की पारी खेली. ये उनके टेस्ट करियर का 17वां शतक है जबकि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा सीरीज का दूसरा शतक. विदेशी धरती पर ये साल 2018 में पुजारा के बल्ले से निकला तीसरा शतक है. मेलबर्न से पहले पुजारा एडिलेड और साउथैम्पटन में भी शतक जमा चुके हैं. इस शतक के साथ बॉक्सिंग डे टेस्ट में शतक जमाने वाले पुजारा 5वें भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं. लेकिन, इस शतक की सबसे खास बात ये है कि ये पुजारा के टेस्ट करियर का सबसे धीमा शतक है.

पिच की जिस ‘हरकत’ पर पुजारा खा गए ‘धोखा’, वो देगी मेलबर्न जीतने का मौका, सचिन ने की भविष्यवाणी

पुजारा के करियर का सबसे धीमा शतक

पुजारा ने 106 रन बनाने के लिए बेशक 319 गेंदों का सामना किया. लेकिन, उनके 100 रन 280 गेंदों पर बने. पुजारा ने इससे पहले अपने किसी भी टेस्ट शतक के लिए इतनी ज्यादा गेंदे नहीं खेली. हालांकि, अपने करियर का सबसे सुस्त शतक लगाने के बावजूद पुजारा ऑस्ट्रेलिया में ऐसा करने के मामले में नंबर वन भारतीय बल्लेबाज नहीं है. पुजारा के बल्ले से निकला धीमा शतक ऑस्ट्रेलिया में किसी भी भारतीय बल्लेबाज के बल्ले से निकला तीसरा धीमा शतक है.

ऑस्ट्रेलिया ने उठाया विराट के कमर दर्द का फायदा, विकेट के लिए 15 मिनट तक फेंकी ‘छोटी गेंद’

शास्त्री की ‘सुस्ती’ का मुकाबला नहीं

दरअसल, ऑस्ट्रेलिया में सबसे धीमा टेस्ट शतक लगाने वाले बल्लेबाज रवि शास्त्री हैं, जो इस वक्त टीम इंडिया के हेड कोच भी है. शास्त्री ने साल 1992 में सिडनी में खेले टेस्ट मैच में 307 गेंदों पर 100 रन पूरे किए थे. शास्त्री के बाद कंगारुओं की जमीं पर सबसे धीमा शतक पूरा करने वाले भारतीय बल्लेबाज सुनील गावस्कर हैं, जिन्होंने 1985 के एडिलेड टेस्ट में 100 रन बनाने के लिए 286 गेंदों का सामना किया था.

विराट से आगे पुजारा

ऑस्ट्रेलिया में शतक के मामले में पुजारा पर रवि शास्त्री की सुस्ती तो भारी पड़ गई पर वो कप्तान कोहली से सबसे ज्यादा गेंदे खेलने के मामले में आगे निकल गए. 1 जनवरी 2017 के बाद से पुजारा टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा गेंद खेलने वाले बल्लेबाज हैं. इस दौरान 40 पारियों में उन्होंने 4633 गेंदों का सामना किया. यानी हर पारी में 116 गेंद खेली. इस मामले में विराट कोहली उनसे ठीक पीछे हैं, जिन्होंने 39 पारियों में 3796 गेंदे खेली है यानी प्रति इनिंग 97 गेंद.